Police

पुलिस हेडक्वॉर्टर के पास, सैनिक की पत्नी के साथ लूटपाट

जवान की पत्नी

नई दिल्ली। पुलिस हेडकवॉर्टर के पास बुधवार सुबह करगिल जंग में हिस्सा रहे सैनिक की पत्नी के साथ लूटपाट की वारदात दर्ज हुई। सैनिक की पत्नी ऑटो से कहीं जा रही थीं तभी बाइक पर सवार बदमाशों ने पर्स छीन लिया जिसमें कैश, जूलरी और मोबाइल फोन थे। छीना-झपटी की वजह से महिला की पीठ में चोट आई। आरोप है कि महिला वारदात के बाद रोड पर काफी समय तक खड़ी पुलिस का इंतजार करती रही लेकिन पुलिस मुख्यालय और थोड़े फासले पर आईपी एस्टेट थाने होने के बावजूद पुलिस 15 मिनट बाद वहां पहुंची।





आरोप है कि आईपी एस्टेट पुलिस ने पहले तो केस हल्का किया, फिर पीड़ित परिवार के साथ खराब व्यवहार किया। पीड़ित महिला मौली का कहना है कि उनके पति सेना से सूबेदार रिटायर्ड हैं। करगिल जंग में हिस्सा ले चुके हैं, जिस पर उन्हें गर्व है पर यह सब आईपी एस्टेट पुलिस को बताने पर उन्हें शर्मिंदगी का अहसास कराया गया।

एक अखबार के मुताबिक लूटपाट के कुछ देर बाद उन्हें जांच अधिकारी ने फोन करके कहा कि उनका पर्स मिल गया है, थाने जाकर ले लो। मौली अपने बेटे के साथ थाने पहुंचीं तो पुलिसकर्मियों ने पर्स उन्हें सौंपने से इनकार कर दिया। उन्हें कोर्ट में याचिका लगाकर पर्स लेने की सलाह दी गई। पर्स को केस की प्रॉपर्टी बताया। मौली के मुताबिक, पर्स से 50 हजार कैश और जूलरी गायब थी। मोबाइल भी टूटे हुए हालत में था। ATM कार्ड और उनका हेल्थ कार्ड रखा था।

उन्होंने पुलिसकर्मियों से इलाज कराने के लिए कम से कम ट्रीटमेंट कार्ड और एटीएम कार्ड लौटाने की रिक्वेस्ट की पर पुलिसकर्मियों ने नहीं दिया। बहुत देर तक थाने में बहस होती रही। उन्होंने कहा कि उनके पति दिल्ली में नहीं हैं, पर्स से कैश और जूलरी लुट चुकी है। अगर एटीएम कार्ड भी नहीं मिले तो उन्हें बहुत परेशानी हो जाएगी। तब जाकर उनका ट्रीटमेंट कार्ड व अन्य सामान लौटाया गया।

रेलवे स्टेशन से ऑटो करके पांडव नगर स्थित बेटे के घर जा रही थीं। सुबह करीब 6 बजे पुलिस हेडक्वॉर्टर पार करते ही वारदात हुई। इस मामले आईपी एस्टेट पुलिस ने स्नैचिंग और चोरी की धारा में केस दर्ज किया है।

Comments

Most Popular

To Top