North-Central India

पुलिस और डकैतों के बीच एनकाउंटर, सब-इंस्पेक्टर शहीद

मुठभेड़ में शहीद दरोगा जेपी सिंह

कानपुर। चित्रकूट में मानिकपुर थाना क्षेत्र के जंगलों में गुरुवार सवेरे पांच बजे साढ़े पांच लाख के इनामी डकैत बबुली कोल गिरोह से पुलिस की मुठभेड़ हो गयी। छह घंटे से ज्यादा भी ज्यादा चली इस मुठभेड़ में रैपुरा थाने के सब-इंस्पेक्टर जय प्रकाश सिंह शहीद हो गए। एक घायल डकैत समेत तीन डकैतों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।





दरोगा जेपी के पेट व पैर में लगी गोलियां

पुलिस को मिली सूचना थी कि कुख्यात बबुली कोल गिरोह जंगल किनारे के गांव निही चिरैया के करीब वन विभाग की चौकी के आसपास मौजूद है। इस पर पुलिस कप्तान ने मऊ और मानिक सर्किल की दो पुलिस टीमें बनाकर जंगल की तरफ रवाना किया। पुलिस को देखते ही गिरोह ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं, पुलिस जब तक संभलती, इससे पहले दरोगा जेपी सिंह के पेट और पैर में दो गोलियां लगीं। पुलिस उन्हें प्राथमिक चिकित्सा मुहैया कराती लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। शहीद सब-इंस्पेक्टर जेपी सिंह मूल रूप से जौनपुर के नेवरिया थाना क्षेत्र के बनोवरा गांव के रहने वाले थे।

उधर, पुलिस की गोली से निही के पुरवा औदरा का रहने वाला डकैत राजू कोल घायल हो गया। पुलिस की तरफ से बाग बबुली कोल का दाहिना हाथ 60 हजार का इनामी लवलेश कोल भी घायल अवस्था में पुलिस हिरासत में है।

साढ़े पांच लाख का इनामी है बबुली

बबुली कोल पर उत्तर प्रदेश से साढ़े पांच लाख और मध्य प्रदेश से 30 हजार का इनाम है। दोनों प्रदेशों की पुलिस ने मिल कर कई बार उसके खिलाफ संयुक्त अभियान चलाया है लेकिन वह हर बार चकमा देकर फरार हो गया। पुलिस अभी जंगल में घेराबंदी किए है। सर्च अभियान जारी है।

Comments

Most Popular

To Top