East India

नक्सलियों के अलावा बीमारी से जूझते जवानों को मिलेगा RO

छत्तीसगढ़-पुलिस

रायपुर। पुलिस के जवानों का छत्तीसगढ़ के नक्सलियों के मुठभेड़ आए दिन होता रहता है लेकिन उन नक्सल प्रभावित इलाके में एक और बड़ी समस्या का सामना जवान करते आ रहे हैं वो है दूषित पानी पीने की मजबूरी। पुलिस के जवान नक्सलियों के अलावा गंदे पानी और मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियों से परेशान हाल हैं। पुलिस बल की इस परेशानी के मद्देनजर अब कुछ जिलों में पीने के पानी के लिए RO सिस्टम मुहैया कराया जा रहा है।





छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के पुलिस अधीक्षक ने शनिवार को कहा कि जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात पुलिस जवानों को अक्सर दूषित पानी और मच्छरों से होने वाली बीमारियों से दो-चार होना पड़ता है। जवानों की इस स्थिति को देख जिले के सभी पुलिस स्टेशनों और शिविरों में साफ पानी के लिए आरओ सिस्टम और 16 जगहों पर फोगिंग वाली मशीन की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि पुलिस जवानों के लिए डेली की जरूरतों और पेयजल की व्यवस्था की गई है। उन्हें पेय जल को साफ करने के लिए स्थानीय और पारंपरिक तरीकों पर निर्भर रहना पड़ता था। यह हालात उस समय और भी बत्तर तब हो जाती थी जब जवान नक्सल अभियान के लिए निकलते थे। ऐसे में कभी-कभी पुलिस बल नदी-नाले का पानी का पीने में इस्तेमाल कर लिया करते थे और फिर बीमार हो जाते थे। इसे देख पुलिस प्रशासन ने पुलिस स्टेशनों और शिविरों में RO सिस्टम लगाने का फैसला किया है।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि बस्तर क्षेत्र में गंदे पानी से पीलिया, टायफाइड और चर्म रोग तथा मच्छरों से होने वाली बीमारियां मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारी आमा है। उन्होंने कहा कि सिर्फ बीजापुर में ही इस साल अक्टूबर महीने तक पुलिस के 60 जवान गंदे पानी की वजह से बीमार हुए थे और तकरीबन ढाई सौ जवानों को मलेरिया और डेंगू हुआ था। इनमें 03 जवानों की इलाज कराते मौत हो गई।

उनके मुताबिक इस क्षेत्र इन समस्याओं को देखते हुए पुलिस जवानों को मच्छरदानी और कीटनाशक मरहम मुहैया कराया गया है पर जब जवान जंगल में विपरीत परिस्थितियों में नक्सल ऑपरेशन में निकलते हैं और कई दिनों तक शिविर से बाहर रहते हैं तब सारे इंतजाम धरे के धरे रह जाते हैं। इन परिशानियों को देखने के बाद उन्होंने जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के साथ मिलकर RO सिस्टर लगाने और फॉगिंग मशीनों से मच्छर भगाने की कोशिश शुरू कर दी गई है।

Comments

Most Popular

To Top