North-Central India

प्रदूषण की वजह से असफल हो रहा है पुलिस का डॉग स्क्वायड 

delhi police dog squad

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण इंसानों को तो परेशान कर ही रहा है। दिल्ली पुलिस का श्वान दस्ता भी इससे परेशान है। आलम यह है कि महानगर की पुलिस के तेज तर्रार श्वान दस्ते की सूंघने की क्षमता प्रभावित हो रही है।





खबरों के मुताबिक बढ़ते प्रदूषण से दिल्ली पुलिस के चार पैर वाले जांबाज कमजोर पड़ते दिख रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कुत्तों की सूंघने की क्षमता कम होती जा रही है और ये अपराधियों तक पहुंचने में असफल हो रहे हैं। कहा जा रहा है कि अब डॉग दस्ता पूरे साल में मुश्किल से पांच या दस मामले ही सुलझाने में पुलिस की मदद कर पाते हैं।

दिल्ली मेट्रो

हाल ही में दिल्ली पुलिस ने अपने डॉग स्क्वायड पर एक सर्वे किया गया जिसमें यह खुलासा हुआ। दिल्ली पुलिस के पास फिलहाल 60 डॉग हैं, जो एक्सप्लोसिव ढूंढने और अपराधियों को पकड़ने में पुलिस की सहायता करते हैं। कुत्तों के अपराधियों तक न पहुंच पाने की वजह जानने पर पता चला कि इनके सामने सबसे बड़ी समस्या प्रदूषण है। बढ़ते प्रदूषण के कारण हवा में तरह-तरह की गंध मिली होने पर वे अपराधी की गंध लेने में असफल हो जाते हैं।

Delhi Police dog squad

सर्वे के मुताबिक जो कुत्ते पहले चोरों, लुटेरे, डकैतों और हत्यारों तक अपनी पहुंच बना पाने में कामयाब हो जाते थे अब वह घटनास्थल से कुछ दूर आगे चलकर पूरी तरह दुविधा में पद जाते हैं कि गंध के मार्फत किस तरफ जाएं? इन कुत्तों के सामने सही गंध न मिल पाने की समस्या आ रही है क्योंकि वातावरण में कई तरह की महक मिल जाती है। इसमें डीजल, पेट्रोल और अन्य विभिन्न तरह का धुआं भी मिल जाता है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक कच्चे रास्तों पर कुत्ता अच्छा काम करता है। मगर अब हर जगह कंक्रीट या तारकोल की सड़कें बन गईं हैं। इसी तरह से गांवों में भी अब लगभग सारी सड़कें पक्की होने लगी हैं। लिहाजा कुत्तों को सूंघने में परेशानी आती है।

Comments

Most Popular

To Top