ITBP

नंदा देवी हादसा: दुनिया के सबसे मुश्किल ऑपरेशन में ITBP को मिली सफलता

आईटीबीपी का रेस्क्यू ऑपरेशन

नई दिल्ली। हिमालय के नंदा देवी पर्वत पर पर्वतारोहण के दौरान अपनी जान गंवाने वाले 07 पर्वतारोहियों में से 04 के शव भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की मदद से पिथौरागढ़ लाए गए हैं। अन्य 03 पर्वतारोहियों के शव अभी मुनस्यारी में रखे गए हैं।





बता दें कि आईटीबीपी ने मानवता का अभूतपूर्व उदाहरण पेश करते हुए तकरीबन तकरीबन 17 दिन पहले यह रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया था। खास बात यह है कि यह बेहद मुश्किल ऑपरेशन हिमालय की करीब 21,000 फीट की ऊंचाई पर किया गया। इस पर्वतारोही दल में कुल 12 लोग शामिल थे जिनमें 11 विदेशी नागरिक थे और एक भारतीय नागरिक था। इन विदेशी नागरिकों में 08 ब्रिटिश, 2 अमेरिकी और एक ऑस्ट्रेलियाई मूल का शामिल था।

पर्वतारोहियों के शवों को एमआई- 17 हेलिकॉप्टर की मदद से लाया गया है। पंचनामा भरने के बाद शवों को हल्द्वानी जिला अस्पताल में रखा जाएगा। उसके बाद सभी पर्वतारोहियों के शवों को दिल्ली लाया जाएगा।

गौरतलब है कि आईटीबीपी के दुर्लभ प्रयासों से शवों को लाने में सफलता मिली है। तकनीकि माउंटेनियरिंग स्किल के माध्यम से इन शवों को एक-एक कर नीचे लाया गया है।

बल के पर्वतारोही रतन सिंह सोनाल के नेतृत्व में आईटीबीपी के पर्वतारोही पिछले 17 दिनों से पर्वतारोहियों के गुम हुए दल को ढूढ़ने के बाद उनके पार्थिव शरीरों को नीचे लाने के प्रयास में लगातार खराब मौसम से जूझ रहे थे।

 

Comments

Most Popular

To Top