ICG

स्पेशल रिपोर्ट: कोस्ट गार्ड  समुद्री जीवन की रक्षा में

इंडियन कोस्ट गार्ड

नई दिल्ली। भारतीय कोस्ट गार्ड भारतीय समुद्र तटों की चौकसी और रक्षा तो कर ही रहा है वह समुद्री जीवन की रक्षा में भी उतना ही तत्पर है।





 यहां कोस्ट गार्ड के प्रवक्ता के मुताबिक लुप्त हो रहे   समुद्री कछुआ ओलिव सी रिडली  की  रक्षा के लिये आपरेशन ओलीविया का संचालन करता है। ये कछुए नवम्बर के अंत तक समुद्र तटों पर आते हैं औऱ मई माह तक रहते हैं।  मई के महीने में ये अंडे देते हैं।

ओडिशा में  पारादीप स्थित कोस्ट गार्ड मुख्यालय  ने राज्य मत्स्य पालन विभाग के सहयोग से  यह आपरेशन चलाया जो एक नवम्बर से शुरु हुआ था।  गौरतलब है कि ओलिव सी रिडली कछुआ ओडिसा के  तट पर ही सबसे अधिक अंडे देता है। पूरी दुनिया में इसी इलाके में कछुए द्वारा अंडे दिये जाते हैं। इन कछुओं की रक्षा के लिये कोस्ट गार्ड के पोतों को तैनात किया गया था। ये पोत यह सुनिश्चित करते हैं कि इन कछुओं को  अंडे देने का समुचित माहौल  मिले। इन कछुओं को गैरकानूनी तौर पर पकडने वाली मछलीमार नौकाओं को भी कोस्ट गार्ड पकडता है। कोस्ट गार्ड के मुताबिक इस साल 7 लाख 31 हजार कछुओं ने अंडे दिये हैं।

Comments

Most Popular

To Top