BSF

..तो वो सरहदों पर अपने फर्ज निभा रहे होते हैं

जवानों की दिवाली

नई दिल्ली। सरहदों की सुरक्षा, दुश्मनों से हिफाजत जिनके रगो में हो…हम जब घरों पर फुलझरियां और दीये जा रहे होते है तो वो हमारी सुरक्षा में सीमा पर अपने फर्ज को निभा रहे होते है जी हां, हम बात कर रहे है देश के उन तमाम जवानों की जो दिवाली में अपने घरों से दूर देश की दुश्मनों से रक्षा के लिए दिन-रात सरहदों पर चौकस रहते है।





सेना के जवान सीमा पर ही ड्यूटी के साथ दिवाली का जश्न मना रहे हैं। यहां त्योहार में उनके साथ उनका परिवार तो नहीं है लेकिन देश की रक्षा के जज्बे के साथ वो वहीं दिवाली की खुशियां एक दूसरे जवानों के साथ मनाते हैं। सीमा पर बीएसएफ के जवानों के साथ न ही उसका परिवार होता है और न ही कोई रिश्तेदार, इनके साथ कोई है तो वह देश के लिए सरहद की सुरक्षा का फर्ज। इन्हीं खतरों के बीच सीमा पर दुश्मनों का मुकाबला करते हुए ये जवान खुशियों के दीप जलाते हैं। इन जवानों का एक ही लक्ष्य होता है कि देश के भीतर सभी अमन के साथ दिवाली और दूसरे त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाएं।

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की तरफ से लगातार हो रहे संघर्ष विराम का मुंहतोड़ जवाब देने और आतंकी घुसपैठ को नाकाम करने के लिए ये जवान अपनी जान की भी परवाह नहीं करते। इन सुरक्षाकर्मियों के बदौलत हम त्योहार अपने परिवारों के साथ चैन से मना पाते हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top