Others

दुनिया के सबसे खतरनाक ‘बॉर्डर’ हमेशा तैनात रहती हैं सेनाएं

ये हैं दुनिया के सबसे खतरनाक 'बॉर्डर'

बॉर्डर के इस पार एक देश तो दूसरी ओर दूसरा। कितनी ही बार इसी बॉर्डर को पार करने वाले इंसान को दुश्मन समझकर मार दिया जाता है। आपने विभिन्न देशों की सीमाओं के बारे में न जाने कितनी  कहानियां सुनी होंगी। आज हम आपको दुनिया के कुछ बॉर्डर्स के बारे में बताने जा रहे हैं जहां सैनिक हमेशा एलर्ट रहते हैं क्योंकि न जाने कब दुश्मन इन सीमाओं से प्रवेश कर जाए और कब दुश्मन से उसका सामना हो जाए।





चीन-कोरिया बॉर्डर

चीन-कोरिया बॉर्डर

द पिन्ग्तु माउंटेन्स, तुमन और यलू नदी चीन और उत्तर कोरिया का बंटवारा करती है। कुछ समय पहले कुछ लोगों ने अच्छी जिन्दगी की उम्मीद में सीमा पार कर चीन में दाखिल होने की कोशिश की थी। मगर कोरिया के दूसरे राजा किम के सत्ता में आते ही ये सिलसिला भी बंद हो गया, जिसका परिणाम ये हुआ है कि आज चीन एक नुकीली दीवार वाला बॉर्डर बनाने की तैयारी में है।

अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर

अमेरिका-मैक्सिको सीमा

डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव प्रचार के दौरान एक दीवार की काफी चर्चा हुई थी। ड्रग्स माफिया के लिए सीमा रेखा किसी जन्नत से कम नहीं होती। बहुत से मेक्सिको के नागरिक नौकरी और बेहतर जीवन के लिए अवैध रूप से अमेरिका में सीमा पार से घुसने का प्रयास करते रहते हैं। पासपोर्ट और वीजा न होने के कारण कई लोग अपनी जान गंवा बैठते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 14 सालों में 60,000 से भी ज्यादा लोगों की सीमा पार करने के दौरान जान जा चुकी है।

अफगानिस्तान-पाकिस्तान बॉर्डर

अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा

इन दोनों देशों की सीमा रेखा को ‘डूरंड लाइन’ के नाम से जाना जाता है जो कराब डेढ़ किमी. लंबी है। जबकि अफगानिस्तान इस बॉर्डर को नहीं मानता है और यही कारण है दोनों देशों के सैनिकों की तैनाती सीमा पर तनाव का एहसास कराती है। यहां अक्सर दोनों देशों के बीच संघर्ष भी होता रहता है। ऐसा माना जाता है कि इसी तनाव की वजह से करीब 17 लाख अफगानी नागरिक बेघर हो गए हैं।एक खास बात और कि महज तीन महीने में इस बॉर्डर पर अफगान और पाक सैनिकों के बीच करीब 3,000 बार जंग छिड़ने का रिकॉर्ड है।

उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया बॉर्डर

उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया सीमा

उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया की सीमा 150  किलोमीटर लम्बी है। 1953 में हुए कोरियाई युद्ध के बाद से दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने तैनात कर दी गईं ताकि दोनों देशों में शांति बनी रहे लेकिन दोनों देशों के बीच हमेशा तनाव बना रहता है। 2 लाख सैनिकों के साथ ये दुनिया का सबसे ज्‍यादा सैनिकों से घिरा सैन्‍य बॉर्डर है।

यमन-सऊदी अरब बॉर्डर

यमन-सऊदी अरब सीमा

करीब 110 किमी लंबी यमन-सऊदी अरब बॉर्डर पर न जाने कितनी बार भयानक हिंसा हो चुकी है पिछले 65 सालों में दोनों देशों के बीच कई बार टकराव के मामले सामने आए हैं। कई बार हथियारों की सप्लाई करने सऊदी अरब में अवैध रूप से लोग आते हैं। इससे निपटने के लिए सऊदी सरकार सीमा रेखा को ऊंची दीवारों से घेरने की तैयारी में है। 2015 में दोनों देशों के बीच हुए युद्ध में लगभग 6000 आम नागरिक और सैनिक मारे गये थे।

सूडान-दक्षिणी सूडान बॉर्डर

सूडान-दक्षिण सूडान

इन दोनों देशों के बीच 22 साल से होने वाले खूनी युद्ध को साल 2005 में दोनों की मंजूरी से समाप्त किया गया। आंकड़े बताते हैं कि  इस युद्ध में लगभग 15 लाख लोग मारे गये थे। 9 जुलाई 2011 को दक्षिणी सूडान अपनी सीमा रेखा के साथ एक आज़ाद देश बना लेकिन अचानक सूडान के राष्ट्रपति उमर हसन अल बशीर ने यह दावा किया कि दक्षिण सूडान का गठन अमान्य है। फिर से युद्ध के आसार बनते देख तकरीबन एक लाख 13,000 लोग जान गंवाने के डर से घरों को छोड़कर चले गये लेकिन यूनाइटेड नेशन और अफ्रीकन यूनियन की मदद से वर्तमान समय में दोनों देशों ने अपने अपने हालात पर नियंत्रण रखा गया है।

भारत-पाकिस्तान बॉर्डर

भारत पकिस्तान सीमा

भारत-पाकिस्तान की सीमा दुनिया की सबसे खतरनाक सीमा रेखाओं में जानी जाती है। अब तक दोनों देशों के बीच 4 युद्ध हो चुके हैं, जिसमें हर बार पाकिस्तान को मुहं की खानी पड़ी है। कई बार युद्ध में हारने के बाद भी पाकिस्तान हमेशा सीमा पर सीज फायर का उलंघन करता रहता है, जिसका भारतीय सेना हमेशा मुंहतोड़ जवाब देती है। भारत सरकार के अनुसार, पाकिस्तान से सटे सभी सीमाओं पर ऊंची  दीवार से घेराव करने की तैयारी में है। आंकड़ों के अनुसार 1800 किमी  की इस सीमा पर अब तक लगभग 1,15,000 लोग मारे जा चुके हैं। मजेदार बात यह है कि दोनों देशों के बीच सीमा के फाटकों का समापन समारोह पर्यटकों का आकर्षण केंद्र है।

बांग्लादेश-भारत बॉर्डर 

भारत-बांग्लादेश सीमा

अंतर्राष्ट्रीय सीमाक्षेत्र जो 4,096 किलोमीटर यानी 2,545 मील लंबे क्षेत्र को कवर करता है। यह विश्व की  पांचवीं सबसे लम्बी भूमि सीमा है। बांग्लादेश यूं तो भारत की मदद से ही आजाद हुआ था लेकिन आजादी के बाद दोनों देशों के बीच हुई कुछ घटनाओं से दोनों देशों को बहुत नुकसान उठाना पड़ा। ये दुर्भाग्य ही है कि जिस देश को आजाद कराने में भारत ने अहम भूमिका निभाई।  उसी देश की सीमाओं पर घुसपैठ करने वाले 95% बंगलादेशी रहे हैं  जिसके कारण हमेशा इस सीमा पर तनाव बना रहता है। हालांकि अब दोनों देश काफी हद तक करीब है और समस्याएं सुलझ रही है।

Comments

Most Popular

To Top