International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत से पुराना नाता है ब्रिटेन के नये उच्चायुक्त का

फिलिप बार्टन
फाइल फोटो

नई दिल्ली। फिलिप बार्टन ने भारत में ब्रिटेन के नये उच्चायुक्त के तौर पर जिम्मेदारी सम्भाल ली है। फिलिप बार्टन ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को अपना परिचय पत्र प्रस्तुत किया जिसके द्वारा उन्हें भारत में ब्रिटेन के नए उच्चायुक्त के रूप में स्वीकारा गया।





इस मौके पर फिलिप बार्टन ने कहा कि यह उनके डिप्लोमेटिक करियर का सबसे बड़ा सम्मान और सौभाग्य है की उन्हें इस अद्भुत देश में ब्रिटेन का प्रतिनिधि होने का अवसर प्राप्त हुआ है। ब्रिटेन – भारत संबंध उल्लेखनीय है और हम एक अद्वितीय गहरा संबंध साझा करते हैं।

ब्रिटिश सरकार, उद्योग और नागरिक समाज के बीच इस अपूर्व रिश्ते को आगे बढ़ाने की गहरी प्रतिबद्धता है: जिसमें हमारे व्यापार और आर्थिक साझेदारी को विकसित करने में , खासकर अब जब ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ छोड़ दिया है ; जलवायु परिवर्तन और ग्रीन रिकवरी की वैश्विक चुनौतियों से निपटने में , दुनिया में अच्छाई के लिए एक फोर्स फॉर गुड के रूप में काम करने में तथा हमारे दोनों देशों को सुरक्षित और रक्षित रखने के लिए भागीदारी भी शामिल है।

उच्चायुक्त ने कहा कि वह जानते हैं कि वह एक असाधारण कठिन समय पर पहुंच रहा हूं। कोरोनावायरस की आधुनिक समय में कोई मिसाल नहीं है, लेकिन इसने ब्रिटेन और भारत के बीच आधुनिक साझेदारी के महत्व को भी सामने लाया है: जिसमें वैश्विक वितरण के लिए एक वैक्सीन के विकास और निर्माण में हमारा उत्कृष्ट सहयोग ,स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति हासिल करना तथा इस संकट से “वापस बेहतर निर्माण” करने के हमारे संयुक्त संकल्प शामिल है । उच्चायुक्त ने कहा कि वह अपनी ज़िम्मेदारी को यह सुनिश्चित करने के रूप में देखते हैं कि यह महत्वपूर्ण भागीदारी समृद्ध बनी रहे।

फिलिप बार्टन ने कहा कि हम अक्सर लोगों, विचारों और संस्थानों के बीच के “लिविंग ब्रिज” की बातें करते हैं जो यूके और भारत को एक साथ जोड़ता हैं। मैं भी उस सेतु का हिस्सा हूं। मेरी मां का जन्म शिमला में हुआ था और मैं यहाँ 1990 के दशक में दिल्ली में स्थित था। मैं अपनी पत्नी, अमांडा से मिला, जब हम दोनों यहां रहते और काम करते थे और यह न जानते हुए कि मैं एक दिन उच्चायुक्त के रूप में लौटूंगा- हमने अपनी बेटी का नाम ‘इंडिया’ रखा

उच्चायुक्त ने कहा- मैं वापस आने से आनंदित हूँ और जिसे प्रधानमंत्री मोदी ने एक “अपराजेय संयोजन:- यूके और भारत के बीच, एक दूरंदेशी, आधुनिक साझेदारी कहा है, उस पर निरंतर निर्माण जारी रखना चाहता हूं।“

सर फिलिप सर डोमिनिक एस्क्विथ का स्थान ग्रहण कर रहे हैं, जिन्होंने अप्रैल 2016 से जनवरी 2020 तक भारत में उच्चायुक्त के रूप में कार्य किया। जैन थॉम्पसन जो फरवरी से जून 2020 तक कार्यवाहक उच्चायुक्त थी, वह उप उच्चायुक्त के रूप में अपनी भूमिका में लौट आयी हैं।

Comments

Most Popular

To Top