Others

डीआरडीओ की नौकरी छोड़ रहे हैं वैज्ञानिक

डीआरडीओ

नई दिल्ली। रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम कर रहे रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) का साथ छोड़ने वाले वैज्ञानिकों की संख्या बढ़ रही है। वर्ष 2014 से अब तक 143 वैज्ञानिक इस संस्थान से अलग हो गये। केन्द्रीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को लोकसभा में बताया कि वर्ष 2014 में 41, वर्ष 2015 में 42, वर्ष 2016 में 45 और इस साल जुलाई तक 15 वैज्ञानिकों ने डीआरडीओ की नौकरी छोड़ दी।





लोकसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में ऱक्षा मंत्री ने कहा कि नौकरी छोड़ने वाले वैज्ञानिकों की संख्या में ज्यादा इजाफा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिकों को डीआरडीओ से बनाए रखने के लिए व्यापक प्रोत्साहन योजना शुरू की गई है। इस योजना में वित्तीय प्रोत्साहन भी शामिल है।

रक्षा क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए डीआरडीओ ने बेहतरीन काम किया है। अग्नि, पृथ्वी, आकाश सरीखी मिसाइलों के विकास के अलावा डीआरडीओ के वैज्ञानिकों के नाम कई आविष्कार हैं।

Comments

Most Popular

To Top