Others

आजाद हिंद फौज, खन्वाहा युद्ध, मेगस्थनीज, मुगल और अंग्रेज!

आजाद हिंद फौज

डिफेंस-हिस्ट्री

किसने की आजाद हिंद फौज (INA) की स्थापना?

यूं तो आजाद हिंद फौज (INA) का नाम सुभाष चंद्र बोस से जुड़ा है। पर सच्चाई यह है कि इसकी स्थापना का श्रेय भारतीय सेना के एक अधिकारी कैप्टन मोहन सिंह को जाता है। जब जापानी सेना ने मलाया पर जीत प्राप्त की तो जिन सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया उनमें कैप्टन मोहन सिंह भी थे। वह राष्ट्रप्रेमी थे तथा युद्धबंदी भारतीय सैनिकों को साथ लेकर उन्होंने आजाद हिंद फौज का गठन किया।





खन्वाहा का युद्ध किसके बीच हुआ था?

सन् 1527 ई. में यह युद्ध मेवाड़ के राणा सांगा तथा बाबर के बीच हुआ था. इस युद्ध में राणा सांगा की पराजय हुई। राजपूत राज्य मेवाड़ कमजोर हो गया।

मेगस्थनीज किसके दरबार में राजदूत था?

सैन्य व कूटनीति के तहत दूतों व राजदूतों का विशेष महत्व रहा है। मौर्यकाल में दूत-प्रथा में अधिक विकास दिखाई देता है। सेल्यूकस ने मेगस्थनीज को अपना राजदूत बनाकर चंद्रगुप्त के दरबार में भेजा था। वह करीब छह वर्ष तक पाटलिपुत्र में हा और इंडिका नामक पुस्तक लिखी।

मुगल सेना में सर्वाधिक सेना किसकी थी?

मुगल सेना में सर्वाधिक संख्या पैदल सैनिकों की थी। इसके अलावा घुड़सवार, बंदूकची प्रमुख अंग थे। इसके अलावा नौसैनिक बेड़े भी थे। इन सभी अंगों में घुड़सवार प्रमुख थे।

अंग्रेजों ने भारत में पहली बार कब असुरक्षित महसूस किया?

अंग्रेजों ने सन् 1857 के गदर के बाद खुद को पहली बार असुरक्षित महसूस किया था। तमाम अंग्रेजों को मेरठ, दिल्ली, कानपुर, झांसी, लखनऊ आदि स्थानों पर भारी संख्या में मौत के घाट उतार दिया गया था। देश के कई स्थानों पर स्थानीय क्षत्रपों ने उन्हें कड़ी टक्कर दी थी। ये अलग बात है कि बाद में वे पूरे भारत में काबिज हो गए।

Comments

Most Popular

To Top