Defence History

DEFENCE HISTORY: ऑपरेशन पवन, महाभारत काल, जय जवान-जय किसान, चंपानेर की संधि और बाबर

डिफेंस हिस्ट्री

किसने शुरू किया था ऑपरेशन पवन ?

ऑपरेशन पवन

ऑपरेशन पवन (फाइल)

ग्यारह अक्टूबर 1987 को भारतीय शांति सेना ने लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) के कब्जे से श्रीलंका के जाफना को मुक्त कराने के लिए ऑपरेशन पवन शुरू किया था। इस अभियान में भारतीय सेना को विजय मिली। यह ऑपरेशन 11-25 अक्टूबर तक चला।





गुप्तचरों के कैसे गुण होते थे महाभारत में ?

महाभारत काल

महाभारत ग्रंथ में इस बात का उल्लेख मिलता है कि गुप्तचर के पद पर उसी व्यक्ति को नियुक्त किया जाना चाहिए जिसमें इस प्रकार के गुण हों। जैसे बुद्धिमान, भूख-प्यास तथा परिश्रम की क्षमता रखने वाला, अपने ही राज्य के भीतर निवास करने वाला तथा जिसकी अच्छी तरह से परीक्षा कर ली गई हो।

जय जवान जय किसान का नारा कहां दिया गया था ?

पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री

देशवासियों में राष्ट्रभक्ति की भावना तथा जवानों व किसानों के प्रति सम्मान देने वाला नारा जय जवान जय किसान तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने दिया था। यह नारा उन्होंने दिल्ली के रामलीला मैदान में सन 1965 में मौजूद भीड़ को संबोधित करते हुए दिया था।

चंपानेर की संधि कब हुई थी ?

शासक राणा कुंभा

राजपूताने की यह ऐतिहासिक संधि सन् 1546 में हुई थी। यह संधि मालवा के शासक महमूद खिलजी तथा गुजरात के शासक कुतुबुद्दीन के बीच हुई थी। जिसका मुख्य उद्देश्य था मेवाड़ के शासक राणा कुंभा की शक्ति का पतन करना। दोनों राज्यों की सेनाओं ने बदनौर नामक स्थान पर राणा कुंभा से संघर्ष किया। जिसमें राणा कुंभा ने मालवा को बुरी तरह परास्त किया।

बाबर की सेना में कितने सैनिक थे ?

मुगल राज की जंग

मुगल साम्राज्य का संस्थापक बाबर जब इब्राहिम लोदी से मुकाबला करने के लिए बढ़ा, तब उसकी सेना में मात्र 12,000 जांबाज, प्रशिक्षित तथा अनुशासित सैनिकों की फौज थी। जबकि इब्राहिम लोदी के पास 1,00,000 सैनिक थे। परंतु उनमें अनुभव की कमी थी।

Comments

Most Popular

To Top