Others

डोकलाम गतिरोध ज्यादा गंभीर मुद्दा नहीं: दलाई लामा

नई दिल्ली। भारत-चीन के बीच जारी गतिरोध के दौरान तिब्बती आध्यात्मिक गुरू दलाई लामा ने बुधवार को कहा कि भारत और चीन पड़ोसी है और उन्हें आसपास ही रहना है और दोनों देशों के बीच डोकलाम पर गतिरोध ज्यादा गंभीर मसला नहीं है। दलाई लामा के मुताबिक कई बार दोनों देश कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हैं पर आगे बढ़ने के लिए ‘हिन्दी चीनी भाई भाई’ की भावना ही शांति के लिए एकमात्र जरिया है।





आध्यात्मिक गुरू ने यहां एक कार्यक्रम के दौरान कहा, मुझे नहीं लगता कि यह ज्यादा गंभीर मामला है। उन्होंने कहा कि प्रचार चीजों को ज्यादा जटिल बना देता है।’

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित राजेंद्र माथुर मेमोरियल लेक्चर के समय दलाई लामा ने कहा कि 1962 में चीनी सेना जो कि बोमडीला तक पहुंच गई थी जिसे आखिरकार वापस लौटना पड़ा। भारत और चीन को एकसाथ रहना है।

उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच सिक्किम सेक्टर के डोकलाम पर तनाव उस वक्त शुरू हुआ जब चीनी सेना ने वहां सड़क निर्माण का कार्य शुरू किया। लगभग 50 दिनों से दोनों देशों के बीच विवाद जारी है।

चीन दावा कर रहा है कि वह अपने क्षेत्र में निर्माण कर रहा है और उसने भारत से बिना देर किए सेना हटाने को कहा है। वहीं भूटान का कहना है कि डोकलाम उसकी सीमा में है। चीन का कहना है कि इस मुद्दे पर भूटान का उसके साथ कोई मतभेद नहीं है।

Comments

Most Popular

To Top