Jails

तिहाड़: निर्भया के चारों दोषी लटकाए गए फांसी पर, जल्लाद पवन ने तोड़ा दादा-परदादा का रिकॉर्ड

पवन जल्लाद

नई दिल्ली। केंद्रीय कारागार तिहाड़ में निर्भया बलात्कार कांड के चारों दोषियों को फांसी देने के साथ ही पवन जल्लाद का सपना पूरा हो गया। आज सुबह 05:30 बजे पवन जल्लाद ने चारों दोषियों को फांसी पर लटकाया। चारों को एकसाथ फांसी देकर पवन जल्लाद ने अपने दादा और परदादा का रिकॉर्ड तोड़ दिया क्योंकि इससे पहले तिहाड़ में एकसाथ 04 फांसी नहीं दी गई थी।





पवन को पिछले 02 दिन से तिहाड़ जेल में जेल प्रशासन द्वारा ट्रेनिंग दी जा रही थी। उसका कहना है कि अपने दादा कल्लू जल्लाद से उसने फांसी देने की कला सीखी थी। फांसी के साथ ही मेरा ही नहीं मेरे दादा और मेरा पिता का भी सपना पूरा हो गया।

बता दें कि पवन जल्लाद का परिवार फांसी देने का काम पीढ़ी दर पीढ़ी करता आ रहा है। पवन के दादा कल्लूराम और परदादा लक्ष्मण राम भी फांसी देते थे। कुख्यात अपराधी रंगा-बिल्ला, पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारे सतवंत सिंह व केहर सिंह को पवन के दादा कल्लू जल्लाद ने फांसी दी थी।

पवन का दावा है कि वह साल 1988 में अपने दादा के साथ आगरा गया था। जहां पर एक अपराधी को फांसी दी गई थी।

पवन जल्लाद को जेल प्रशासन ने उसे फांसी देने के लिए पूरी तरह से तैयार किया। मेरठ जिला जेल के वरिष्ठ अधीक्षक बीडी पाण्डेय ने बताया कि 03 दिन पहले ही जल्लाद पवन को तिहाड़ जेल भेजा गया था। उसे मेरठ जेल में भी फांसी देने का तरीका सिखाया गया था।

Comments

Most Popular

To Top