International

सैन्य तख्तापलट के संकेत, जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति और उनकी पत्नी सेना की कस्टडी में

जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति राबर्ट मुगाबे

हरारे। हरारे की सड़कों पर सेना की बख्तरबंद गाड़ियां और टैंक गश्त लगाते देखे जा रहे हैं। खबर यह भी है कि जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति राबर्ट मुगाबे और उनकी पत्नी को सेना ने अपनी हिरासत में ले लिया है। ये घटनाएं जिम्बाब्वे में सैन्य तख्तापलट की तरफ इशारा कर रही हैं। हालांकि सेना तख्तापलट की बात नकार रही है।





इससे कुछ ही घंटे पहले खबर आई थी कि जिम्बाब्वे के सरकारी टीवी चैनल को सेना ने अपने कब्जे में ले लिया है। बेशक ये सब बातें तख्तापलट की तरफ इशारा कर रही हैं लेकिन सेना के समर्थक इसे तख्तापलट नहीं रक्तहीन सुधार बता रहे हैं। सरकारी टीवी पर खुद सेना ने भी अपने बयान में सैन्य तख्तापलट की बात से इनकार किया है। वैसे जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति 93 वर्षीय राबर्ट मुगाबे और उनकी पत्नी कहां हैं इस बारे में सेना ने कुछ नहीं बताया है। हालांकि उनके सुरक्षित होने की बात कही जा रही है। सीनियर अफसरों ने टीवी पर कहा, राबर्ट मुगाबे की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। हमारे निशाने पर सिर्फ वे लोग हैं जिनके कारण देश के लोगों को सामाजिक और आर्थिक दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं।

बीती रात हरारे में तीन धमाकों और सेना के टैंकों और बख्तरबंद गाड़ियों को सड़क पर गश्त करते देखे जाने के बाद से ही वहां अफरा-तफरी का माहौल है। बैंकों के बाहर लोगों की लंबी कतारें लगी हुई हैं लेकिन वहां सीमित कैश निकालने की ही अनुमति है। गौरतलब है कि यह पाबंदी इसलिए है क्योंकि जिम्बाब्वे लंबे समय से वित्तीय संकट का सामना कर रहा है।

वैसे सेना की इस कार्रवाई के बारे में अलग-अलग बातें सामने आ रही हैं। कहा यह भी जा रहा है कि सेना ने यह कार्रवाई उपराष्ट्रपति के बहकावे में आकर की है। राबर्ट मुगाबे की जगह उपराष्ट्रपति इमरसन को अंतरिम राष्ट्रपति बनाने की बात भी सामने आ रही है। सेना के जवान आम आदमियों को भी पीट रही है ऐसी बातें भी खबरों में आ रही हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top