International

स्पेशल रिपोर्ट: पाकिस्तान में दो भारतीय स्टाफ लापता

इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग
फाइल फोटो

नई दिल्ली। इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के दो स्टाफ सोमवार सुबह से लापता हैं। इस्लामाबाद में भारतीय उच्चयोग के प्रवक्ता ने इस आशय की मीडिया रिपोर्टों की पुष्टि करते हुए कहा है कि इस मसले को पाकिस्तानी अधिकारियों से उठाया गया है।





प्राप्त रिपोर्टों के मुताबिक दोनों भारतीय स्टाफ को सोमवार सुबह 8.30 बजे अगवा किया गया है। दोनों स्टाफ आधिकारिक काम से बाहर गए थे। दोनों स्टाफ केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के ड्राइवर हैं और अपनी नियमित ड्यूटी पर थे। वे अपने गंतव्य तक जब नहीं पहुंचे तो उनके लापता होने की शंका पैदा हुई।

गौरतलब है कि पिछसे सप्ताह भारत ने नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के 02 स्टाफ को भारत से निष्कासित किया था। तब से ही दोनों देशों के बीच तनाव का स्तर बढ़ रहा था। राजनयिक सूत्रों के मुताबिक भारतीय कार्रवाई के जवाब में पाकिस्तान में भी ऐसी ही कार्रवाई की उम्मीद की जा रही थी।

यहां सूत्रों का कहना है कि इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के स्टाफ औऱ राजनयिकों पर निरंतर निगरानी और उनका पीछा किया जाने की वजह से भारतीय उच्चायोग का काम करना मुश्किल होता जा रहा है। कुछ दिनों पहले इस्लामाबाद में भारतीय राजनयिक गौरव अहलूवालिया की कार का खुफिया एजेंसी आईएसआई के मोटरसाइकल सवार एजेंटों ने पीछा किया और उन्हें आतंकित किया। भारतीय राजनयिकों को तंग करने को लेकर गत मार्च महीने में भारतीय विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय को कडा नोट जारी किया था। इस नोट के मुताबिक केवल मार्च महीने में ही भारतीय राजनयिक स्टाफ को तंग करने की 13 वारदातें हुई थीं।

भारत ने कहा है कि पाकिस्तानी खुफिया अधिकारियों का बर्ताव 1961 के वियना समझौते की भावना का हनन करता है। भारत ने पाकिस्तान का ध्यान 1992 की दिवपक्षीय सहमति की ओर भी दिलाया है जिसमें दोनों देशों ने एक दूसरे के राजनयिक स्टाफ के साथ बुरा बर्ताव न करने की हामी भरी थी।

Comments

Most Popular

To Top