International

स्पेशल रिपोर्ट: ट्रम्प के साथ हर मसले पर हुईं बातें- मोदी

नई दिल्ली। भारत और अमेरिका ने आपसी सामरिक साझेदारी के रिश्तों का स्तर ऊंचा कर समग्र वैश्विक सामरिक साझेदारी का नाम दिया है।





यहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प औऱ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच अकेले में और फिर शिष्टमंडल स्तर की बातचीत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ हुई बातचीत के बाद कहा कि  दोनों ने आपसी रिश्तों के हर क्षेत्र के बारे में बातचीत की है। चाहे वह रक्षा हो या सामरिक मसले या फिर  ऊर्जा सामरिक साझेदारी ,या तकनीकी सहयोग या  वैश्विक सम्पर्क या  व्यापारिक रिश्ते या  जनता के बीच रिश्ते दोनों के बीच इन मसलों पर गहन बातचीत हुई है।

भारत और अमेरिका के बीच रक्षा औऱ सामरिक मसलों पर बातचीत  हमारी सामरिक साझेदारी के लिये काफी जरुरी है।  अमेरिकी रक्षा मंचों औऱ हथियारों की वजह से भारत की रक्षा क्षमता बढी है।  हमारे रक्षा निर्माता एक दूसरे की सप्लाई चेन के हिस्सा बन चुके हैं।  आज भारतीय सेनाएं अमेरिकी सेनाओं के साथ सर्वाधिक अभ्यास कर रहे हैं।  पिछले कुछ सालों में  दोनों देशों की सेनाओं के बीच असाधारण तौर से आदान प्रदान हुआ है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इसी  तरह अंदरुनी सुरक्षा को मजबूत करने के लिये भी दोनों देशों के साथ गहन बातचीत और सहयोग होता है।  जहां तक ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग का सवाल है दोनों देशों के बीच  पिछले चार सालों में 20 अरब डालर का व्यापार हुआ है।  चाहे वह नवीकरणीय ऊर्जा हो या परमाणु ऊर्ज्ञा हो दोनों देशों के बीच ऊर्जा क्षेत्र में व्यापक सहयोग चल रहा है।

 इसी तरह 21 सदीं की नई तकनीक के क्षेत्र मे  भी भारतीय और अमेरिकी उद्योग के बीच सहयोग चल रहा है।  भारतीय पेशेवर लोगों की प्रतिभा की वजह से अमेरिकी उद्योग जगत मजबूती हासिल कर रहा है।

Comments

Most Popular

To Top