International

Special Report: चीन के साथ तनातनी को लेकर राजनयिक और सैन्य स्तर पर वार्ता जारी

भारत और चीन सैन्य अभ्यास खत्म
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत के लद्दाख सीमांत इलाके में चीन की सेना के साथ चल रही सैन्य तनातनी का हल निकालने के लिये भारत और चीन के आला राजनयिक और सैनिक अधिकारियों के बीच बातचीत चल रही है।





विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने यहां इस आशय के संकेत देते हुए कहा कि भारत इस इलाके में अपनी प्रादेशिक अखंडता औऱ सम्प्रभुता की रक्षा के लिये कृतसंकल्प है।

गौरतलब है कि गत 05 मई से ही लद्दाख के सीमांत इलाकों में आपसी मुठभेड़ के बाद तनातनी चल रही है। इसके बाद से ही दोनों ओर से सैनिक तैनाती बढाई गई है जिससे उस पूरे इलाके में दोनों देशों के सैनिक आमने सामने हो गए हैं। भारत ने कहा है कि चीन अपने सैनिकों को नियंत्रण रेखा के भारतीय इलाके से पीछे ले जाए लेकिन चीन ने मांग की है कि पहले भारत इस इलाके में सड़क निर्माण का काम रोक दे। भारत ने ऐसा करने से मना कर दिया है इसलिये चीन ने भी भारत को धमकाने के लिये इन सीमांत इलाकों में पांच हजार से अधिक सैनिक तैनात कर दिये हैं । 22 दिनों तक चली सैन्य तनातनी के बाद बुधवार को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता और यहां चीनी राजदूत ने अपना तेवर नरम करने वाला बयान दिया था जिससे उम्मीद की जा रही थी कि दोनों देशों के बीच तनाव जल्द खत्म हो जाएगा।

लेकिन यहां विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार शाम को तनाव खत्म करने के बारे में केवल यही कहा कि दोनों पक्षों के बीच बातचीत चल रही है। प्रवक्ता ने याद दिलाया कि दोनों देशों के सीमांत इलाकों पर शांति व स्थिरता बनाए रखने के लिये 1993, 1996, 2003, 2012 और 2013 में समझौते हुए थे जिसका भारत पालन कर रहा है। इन्हीं समझौतों के तहत दोनों देशों ने वर्किंग मैकेनिज्म को सक्रिय किया है जिसके प्रतिनिधि आपस में गहन वार्ता कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top