International

स्पेशल रिपोर्ट: ताइवान ने भारत को भेंट किए 10 लाख फेस मास्क

ताइवान ने दिए मास्क
फाइल फोटो

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से लड़ रहे भारतीय चिकित्सा कर्मियों के लिये ताइवान ने 10 लाख फेस मास्क भारत को भेंट किये हैं। ताइवान के राजदूत चुंक क्वांग त्येन ने ये फेस मास्क भारतीय रेड क्रास को आठ मई को सौंपे।





चीन से अपने को अलग एक स्वतंत्र देश होने का दावा करने वाली ताइवान सरकार ने बाकी देशों को कुल अढाई करोड़ फेस मास्क भेंट किये हैं। ताइवान ने कहा है कि कोरोना के खिलाफ लडाई में व्यापक अंतरराष्ट्रीय सहयोग की जरुरत है।

भारत के अलावा यूरोपीय देशों और अमेरिका और हिंद प्रशांत इलाके के देशों को ताइवान सरकार ने फेस मास्क भेंट किये। भारत को भेंट में दिये गए फेस्क मास्क एक विशेष विमान से गत चार मई को भारत पहुंचे थे।

रेड क्रास को फेस मास्क भेंट करने के दौरान राजदूत चुंग क्वांग ने कहा कि वायरस किसी देश की सीमा या जाति, लिंग आदि को नहीं पहचानता है इसलिये कोरोना से लड़ रहे देशों के बीच आपसी मदद की कोई बाधा नहीं पेदा होनी चाहिये। गौरतलब है कि ताइवान चीन का विद्रोही प्रांत है जिसने एक स्वतंत्र देश के तौर पर अपना अस्तित्व बनाया हुआ है। राजदूत ने कहा कि ताइवान ने दुनिया को दिखाया है कि समय से पहले शुरू की गई तैयारी की वजह से ताइवान कोरोना के कहर से बच सका है। 2003 के दौरान सार्स वायरस के प्रकोप के दौरान ताइवान ने पूरी दुनिया को मदद दी थी। कोरोना वायरस से लडने में ताइवान अपने अनुभवों को बाकी दुनिया के साथ बांटना चाहेगा।

भारत को ताइवान का एक महत्वपूर्ण साझेदार बताते हुए राजदूत ने भरोसा जाहिर किया कि भारत कोरोना की चुनौतियों से निबट सकेगा और आर्थिक संकटों से पार पा लेगा। रेड क्रास ने ताइवान द्वारा दी गई मदद के लिये आभार जाहिर किया है।

Comments

Most Popular

To Top