International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत के पूर्व विदेश सचिव सरन को जापान का विशेष सम्मान

पूर्व विदेश सचिव श्याम सरन

नई दिल्ली। जापान ने अपने देश के सर्वोच्च सम्मान ‘आर्डर आफ द राइजिंग सन- गोल्ड एंड सिल्वर स्टार’ से भारत के पूर्व विदेश सचिव और भारत के विशेष दूत रह चुके अम्बेसडर श्याम सरन को सम्मानित किया है। जापान सरकार की ओर से  राजदूत केंजी हीरामात्सु ने यह सम्मान श्याम सरन को प्रदान किया। श्याम सरन को यह सम्मान भारत-जापान सम्बन्धों को गहरा बनाने में दिये गए विशेष योगदान के लिये प्रदान किया गया है।





यह सम्मान प्रदान करने के लिये जापानी दूतावास  ने यहां एक विशेष समारोह आयोजित किया गया। जापानी राजदूत हीरामात्सु ने उन्हें जापानी सम्राट की ओऱ से प्रशस्ति पत्र प्रदान किया। राजदूत सरन 1986 से 1989 के बीच टोकियो में भारतीय दूतावास में डिप्टी चीफ आफ मिशन के तौर पर तैनात रहे और इस दौरान  और बाद में भारत के विदेश सचिव की हैसियत से  भारत और जापान के बीच आपसी  सामरिक सम्बन्धों को गहरा बनाने में उनके विशेष योगदान को सराहा गया। साल 1988 में उनकी देखरेख में जापान में भारत पर्व मनाया गया जिससे भारत और जापान के बीच सांस्कृतिक रिश्ते मजबूत हुए।

साल 2004 से 2006 के दौरान भारत के विदेश सचिव के तौर पर उन्होंने जापान औऱ भारत के बीच सामरिक रिश्तों को नई ऊंचाई दी।  उनके कार्यकाल में जापान के प्रधानमंत्री  जुनीकीरो कोईजुमी ने भारत का दौरा किया।  जापान के किसी प्रधानमंत्री का पांच साल बाद भारत का दौरा हुआ था। राजदूत सरन ने भारत-जापान रिश्तों के लिये एक नया ढ़ाचा खड़ा किया ।

राजदूत सरन ने यह सम्मान स्वीकार करते  हुए कहा कि हाल के सालों में भारत जापान रिश्ते काफी गहरे हुए हैं। दोनों देशों के  प्रयासों से हिंद प्रशांत इलाके में एक नई व्यवस्था खड़ी की जा रही है।

राजदूत हीरामात्सु ने कहा कि भारत और जापान के रिशते आज से बेहतर कभी नहीं रहे हैं।। उन्होंने कहा कि  भारत-जापान रिश्तों को विकसित करने में  जापान सरकार की मजबूत   प्रतिबद्धता  है। भारत और जापान के बीच अब विशेष वैश्विक सामरिक साझेदारी का रिश्ता विकसित हो चुका है।

Comments

Most Popular

To Top