International

Special Report: ताइवान को WHO में शामिल करने का चीन ने किया विरोध

ताइवान की प्रधानमंत्री

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)  की गतिविधियों में ताइवान को शामिल करने का चीन ने  विरोध  किया है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चीन से फैले संक्रमण के बाद ताइवान ने इससे बचने के लिये प्रभावी उपाय अपनाए औऱ अपने को कोरोना को लेकर WHO  से सम्बद्ध करने की मांग की।





कुछ भारतीय अखबारों में ताइवान को WHO  की गतिविधियों में शामिल करने की वकालत का संज्ञान लेते हुए यहां चीनी दुतावास की प्रवक्ता ची रोंग ने कहा है कि  WHO की गतिविधियों में कोई सम्प्रभु देश ही भाग ले सकता है जब कि ताइवान चीन का एक एक प्रांत है। गौरतलब है कि ताइवान अपने को चीन से स्वतंत्र देश की तरह मानता है।  इसी के मद्देनजर चीन ने भारतीय मीडिया से कहा है कि ताइवान की स्वतंत्रता की माग का मंच नही बनें।

चीनी प्रवक्ता ने कहा कि ताइवान चीन का अंतरंग हिस्सा है और इसे  संयुक्त राष्ट्र के किसी संगठन में सीधी भागीदारी की अनुमति नहीं दी जा सकती है।  प्रवक्ता ने कहा कि WHO  संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष भूमिका वाली एजेंसी है  जिसमें केवल सम्प्रभु देश ही भाग ले सकते हैं।  प्रवक्ता ने साफ किया कि 2009 से 2016 तक ताइवान ने  WHO में ताइवान ने एक पर्यवेत्रक की हैसियत से चाईनीज ताइपेई के नाम से भाग लिया है। ताइवान के लिये यह विशेष प्रबंध किया गया था जो साल 1992 की एकीकृत-चीन की   सहमति  पर आधारित था । लेकिन ताइवान की सत्तारुढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी ( DPP)  ने  अलगाववादी तेवर अपनाते हुए अपने को स्वतंत्र देश बताया  और एक चीन के सिद्धांत को लगातार चुनौती दी।

Comments

Most Popular

To Top