International

स्पेशल रिपोर्ट: रूस ने कहा- भारत को चीन विरोधी खेल में खींचा जा रहा है

रूस के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव
फाइल फोटो

नई दिल्ली। रूस ने कहा है कि पश्चिमी देश चर्तुपक्षीय गुट यानी क्वाड को बढ़ावा दे कर भारत को चीन विरोधी खेल में खींच रहे हैं। रूस के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव ने अपने बयान में कहा है कि इसके साथ ही पश्चिमी देश भारत के साथ विशेष सामरिक साझेदारी के रिश्तों पर आंच डाल रहे हैं।





भारत और चीन के बीच चल रही मौजूदा सैन्य तनातनी के बीच रूस का यह बयान भारत की क्वाड नीति के खिलाफ है। गौरतलब है कि भारत अमेरिका द्वारा प्रवर्तित चार देशों के गुट अमेरिका, जापान, भारत और आस्ट्रेलिया में सक्रिय हिस्सेदारी कर रहा है। चारों देशों के विदेश मंत्रियों ने गत छह अक्टूबर को टोक्यो में बैठक की थी। इस गुट को चीन विरोधी माना जा रहा है।

लावरोव के मुताबिक अमेरिका का यह लक्ष्य है कि वह भारत पर कड़ा दबाव डाल कर किसी भी तरीके से रूस और चीन विरोधी खेमे में खींच कर एकध्रुवीय दुनिया में शामिल कर ले। लावरोव ने कहा कि हमारा लक्ष्य और अजेंडा एकजुट करने का है । लावरोव के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बाहर जी-20 एकमात्र संगठन है जहां हितों के सुंतलन के आधार पर संतुलित तरीके से चला जा सकता है। लावरोव के मुताबिक जी-20 एकमात्र संगठन है जिसका औपचारिक वैधानिक ढांचे में खडा किया जा सकता है।

लावरोव ने कहा कि पश्चिम ने बहुध्रुवीय दुनिया की ओर बढती प्रवृति को अस्वीकार कर एक खेल शुरु किया है। पश्चिम ने किसी भी तरीके से दुनिया को एकध्रुवीय गांठ में बांधने की कोशिश कर रहा है। पश्चिम यह गलत मान रहा है कि घमंडी रुस को अलगथलग और दडित किया गया है।

रूसी विदेश मंत्री का यह बयान भारत की क्वाड नीति पर गहरी चोट करता है। रूस के इस ताजा रुख से भारत और रूस के बीच सामरिक साझेदारी के रिश्तों पर आंच आ सकती है।

Comments

Most Popular

To Top