International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत और मालदीव के बीच सीधी जहाज सेवा

पीएम मोदी मालदीव दौरे पर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत और मालदीव के बीच आपसी व्यापारिक औऱ आर्थिक रिश्तों को और गहरा करने के लिये भारत ने मालदीव के बीच सीधी जहाज सेवा शुरु की जिससे मालदीव को भारतीय निर्यात बढ़ाने में मदद मिलेगी।





गौरतलब है कि मालदीव के सबसे नजदीकी देश होने के बावजूद भारत मालदीव का चौथा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है जब कि मालदीव का सर्वाधिक आयात संयुक्त अरब अमीरात , कोलम्बो ,सिंगापुर और चीन से होता है। साफ है कि भारत और मालदीव के बीच व्यापारिक स्तर भारत की क्षमताओं के अनुरूप नहीं है।

यहां विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि भारत और मालदीव के बीच महीने में दो बार फेरी सर्विस संचालित होगी। इससे भारतीय माल को मालदीव आसानी से अधिक सस्ते में पहुंचाया जा सकेगा। इससे दिवपक्षीय व्यापार को भारी बढावा मिलेगा।

फिलहाल भारत का मालदीव के साथ दिवपक्षीय व्यापार सालाना 28 करोड़ डालर ही है। मालदीव भारत की तुलना में संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर ,कोलम्बो औऱ चीन से अधिक आयात करता है। अब दोनों देशों के बीच सीधा मालवाही जहाज परिवहन शुरू होने से भारतीय माल को जल्दी औऱ अधिक सस्ते में भेजा जा सकेगा। इस फेरी सेवा की बदौलत मालदीव से टूना फिश का भी अधिक आयात हो सकेगा। इसके लिये फेरी में कोल्ड स्टोरेज सुविधा भी होगी। गौरतलब है कि मालदीव अपनी दैनिक जरूरत का शत प्रतिशत आयात करता है।

Comments

Most Popular

To Top