International

स्पेशल रिपोर्ट: दो और विमानवाहक पोतों को कोरोना ने डसा

यूएसएस रुजवेल्ट
फाइल फोटो

नई दिल्ली। अमेरिका के परमाणु बिजली चालित विमानवाहक पोत ‘यूएसएस रुजवेल्ट’ के बाद अब अमेरिका के एक और विमानवाहक पोत के अलावा फ्रांस के परमाणु बिजली संचालित विमानवाहक पोत चार्ल्स द गाल को भी कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में ले लिया है।





अमेरिकी नौसेना के दूसरे विमानवाहक पोत ‘यूएसएस निमित्ज’ को भी कोरोना वायरस द्वारा डस लेने की रिपोर्ट  मिली है। इससे अमेरिकी नौसैनिक हलकों में गहरी चिंता का माहौल है। गौरतलब है कि पिछले महीने जिस अमेरिकी विमानवाहक पोत यूएसएस रुजवेल्ट के नौसैनिकों के बीच कोरोना वायरस के संक्रमित होने की रिपोर्ट आई थी उसके कैप्टन को अमेरिकी नोसैना ने इसलिये बर्खास्त कर दिया था कि उसने इस बारे में नौसेना मुख्यालय को भेजी चिट्ठी मीडिया में लीक करवा दी थी। बाद में इसी प्रकरण की वजह से अमेरिकी नौसेना के प्रमुख को भी इस्तीफा देना पड़ा क्योंकि उन्होंने इस प्रकरण को ठीक से नहीं सम्भाला।

चूंकि ये विमानवाहक पोत परमाणु ऊर्ज्ञा से संचालित होते हें और इन पर तैनात नौसैनिकों को पोत के संचालन के लिये विशेष तौर पर प्रशिक्षित किया जाता है इसलिये इनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने से पोत की सुरक्षा को भारी खतरा पहुंच सकता है। इस वजह से अमेरिका और फ्रांस के सामरिक और रक्षा हलकों में भारी चिंता व्याप्त है। गौरतलब है कि पिछले महीने जापान का एक यात्री लक्जरी क्रुजलाइनर, जिस पर 04 हजार यात्री सवार थे, कोरोना वायरस से ग्रसित हो गया था लेकिन इस पोत से भी बड़े आकार के नौसैनिक पोतों पर तैनात नौसैनिकों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने से बीच महासागर में कोई बड़ी परमाणु दुर्घटना होने की आशंका पैदा होती है।

इस आशय की रिपोर्ट है कि फ्रांस के विमानवाहक पोत पर तैनात चालीस नौसैनिकों में कोरोना वायरस पाजिटिव के लक्षण पाए गए हें। इन्हें पोत से हटाया जा रहा है लेकिन पोत पर तैनात बाकी पांच हजार से भी अधिक नौसैनिकों की जीन को भी खतरा पैदा हो सकता है इसलिये फ्रांस की नौसेना इन सबकी कोरोना जांच करवा रही है।  अमेरिका और फ्रांस के ये पोत प्रशंत महासागर के इलाके में विचरण कर अपने तट पर लौट रहे थे तभी इन्हें कोरोना वायरस द्वारा डसने की बातें उजागर हुई।

Comments

Most Popular

To Top