International

Special Report: बहरीन भी इजराइल के साथ, पश्चिम एशिया में नया मोड़

इजराइली पीएम
फाइल फोटो

नई दिल्ली। वाशिंगटन में संयुक्त अरब अमीरात औऱ इजराइल के बीच शांति समझौते के वक्त मौजूद रहने के लिये बहरीन ने अमेरिकी राष्ट्रपति का निमंत्रण स्वीकार किया। इस तरह पश्चिम एशिया की राजनीति में हम आगे आने वाले दिनों में एक नया मोड़ देखेंगे।





राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बीच शांति समझौते की नींव तैयार करने के लिये व्हाइट हाउस में ऐतिहासिक हस्ताक्षर समारोह की अध्यक्षता की।बहरीन ने भी, इस्राइल के साथ गत सप्ताह के अपने समझौते के बाद, समारोह में भाग लेने के राष्ट्रपति के आमंत्रण को स्वीकार किया जिसे पश्चिम एशिया की राजनीति में एक नया मोड़ बताया जा रहा है।

गौरतलब हैकि अगस्त में, राष्ट्रपति ने यूएई और इजराइल के बीच रिश्ते को सामान्य बनाने के लिए एक समझौता कराया था- जो इजराइल और किसी बड़े अरब देश के बीच साल 1994 के बाद इस तरह का पहला समझौता था। दोनों देशों ने एक-दूसरे के यहां दूतावास खोलने और राजदूत नियुक्त करने, तथा शिक्षा, स्वास्थ्य, व्यापार और सुरक्षा समेत विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग शुरू करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की।

यह समझौता इजराइल और उसके पड़ोसियों के बीच संबंधों के सामान्यीकरण की शुरुआत भर है, और आगे ऐसे कई समझौते होने की संभावना है। इजराइल और यूएई के बीच यह समझौता मुसलमानों को अल अक़्सा मस्जिद में शांतिपूर्ण इबादत के अधिक अवसर देकर क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देगा।

यह उन चरमपंथियों का मुक़ाबला करेगा जो एक झूठे कथानक का इस्तेमाल करते हैं कि अल-अक़्सा मस्जिद पर आक्रमणकारियों का नियंत्रण है और मुसलमान इस पवित्र स्थल पर प्रार्थना नहीं कर सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top