International

Special Report: पाक सेना के लिए सबसे बुरा रहा वर्ष 2019

पाक सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। साल 2019 पाकिस्तानी सेना के लिये काफी बुरा रहा। इतने बुरे दौर से पाकिस्तानी सेना कभी नहीं गुजरी। पाकिस्तान की सत्ता नेपथ्य से चलाने वाली पाकिस्तानी सेना अपने ही खेल में मात खाती दिखी।





सबसे बुरा रहा खुद पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर वहीद बाजवा के लिये जो पाकिस्तान में सबसे शक्तिशाली माने जाते हैं। पाकिस्तानी सेना प्रमुख को तीन साल का सेवा विस्तार देने के प्रधानमंत्री इमरान खान के फैसले को अदालत में चुनौती दी गई और अदालत ने इसे संज्ञान में लेते हुए सेवाकाल के विस्तार को रोक दिया और कहा कि जनरल बाजवा केवल छह महीने अतिरिक्त सेवा दे सकते हैं और इस दौरान एक कमेटी यह तय करेगी कि जनरल बाजवा को किस आधार पर सेवा विस्तार मिलना चाहिये।

पाकिस्तानी सेना के लिये इससे भी बुरी बात हुई पाकिस्तानी सेना के हीरो माने जाने वाले करगिल के नायक जनरल परवेज मुशर्रफ को पाकिस्तानी अदालत ने देश द्रोह के आरोप में मौत की सजा सुनाई। जनरल परवेज मुशर्रफ हालांकि इन दिनों निर्वासन में दुबई में रह रहे हैं लेकिन इस फैसले से वह घबराए हैं और पाकिस्तानी सेना भी इसे अपनी इज्जत का सवाल मान रही है। इसलिये वह जनरल मुशर्रफ की जान बचाने के लिये जरुरी चाल चलने लगी है।

आखिर पाकिस्तानी अदालतें इतना ताकतवर कैसे हो गई कि पाकिस्तानी सेना प्रमुख पर उंगली उठाए।जनरल परवेज मुशर्रफ ने तो अपने कार्यकाल में 2008 में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को कालर पक़ड़ कर अपने कमरे से बाहर कर दिया था। इसके बाद उन्होंने देश में राष्ट्रपति चुनाव का नाटक रचा और 99 प्रतिशत मतों से खुद को विजयी घोषित कर लिया। लेकिन उनके नामजद सेना प्रमुख जनरल परवेज कयानी ने अपनी ताकत दिखाई और जनरल परवेज मुशर्ऱफ को सत्ता छोड़ने पर मजबूर किया।

ऐसी ही ताकतवर पाकिस्तानी सेना अब पाकिस्तानी अदालतों के समक्ष घुटने कैसे टेके। पाकिस्तानी सेना के लिये सबसे बड़ा सवाल साल 2019 छोड़ गया है। पाकिस्तानी सेना को पाकिस्तान की सत्ता पर अपनी पैठ बनाने के लिये क्या कुछ नया कर दिखाना होगा। पाकिस्तानी सेना खुद को पाकिस्तान के हितों की संरक्षक मानती है औऱ यह अधिकार समझती है कि वह अपने को भी राष्ट्रहित से ऊपर समझे।

लेकिन आज पाकिस्तान की दो अदालतों ने पाकिस्तानी सेना को सही आइना दिखा दिया है। पाकिस्तानी सेना का पाकिस्तानी समाज औऱ पाकिस्तानी राजनीतिक हलकों में खूब मजाक उड़ाया जा रहा है। पाकिस्तानी सेना ने अपने देश के इतिहास में इससे अपमानजनक दिन पहले नहीं देखे। माना जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना को जो अपमान सहना पड़ा है इससे पाकिस्तानी सैन्य नेतृत्व तिलमिलाया हुआ है औऱ वह पाकिस्तानी राजनीति पर अपना धौंस दिखाने के लिये कुछ बड़ा कदम उठा सकती है।

Comments

Most Popular

To Top