International

पाकिस्तान का परमाणु हथियार क्षेत्र की सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक: अमेरिकी थिंक टैंक का दावा

न्यूक्लियर हथियार

वाशिंगटन। पाकिस्तान एक अकेला ऐसा देश है जिसके बारे में अक्सर कहा जाता है वहां न्यूक्लियर वेपन सेफ नहीं है। इसकी वजह पाकिस्तान में आतंकी संगठनों की बढ़ती सक्रियता है। ऐसे में परमाणु हथियार किसी गलत हाथों में न लग जाए इसको लेकर आए दिन सवाल उठते रहते हैं।





यूएस थिंक टैंक द एटलांटिक काउंसिल की ताजा रिपोर्ट में इसे लेकर संदेह जाताया गया है। काउंसिल ने ‘एशिया इन द सेकंड न्यूक्लियर एज’ नाम की रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान ने अपने परमाणु हथियारों को लेकर कोई योजना नहीं बनाई है और न ही वह उस तरह की किसी योजना पर कार्य कर रहा है।

पाकिस्तान का न्यूक्लियर वेपन न सिर्फ आस-पास के क्षेत्रों की सुरक्षा के लिए खतरनाक है बल्कि यह आम जंग को परमाणु युद्ध में बदलने की सबसे आसान वजह बन सकती है। ऐसे में उन हथियारों की सुरक्षा और प्रयोग खतरे में है। कोई योजना न होने के कारण तनाव बढ़ता देख इनका गलत इस्तेमाल हो सकता है। इस वजह से परमाणु हथियारों का बड़े पैमाने पर विकास और उनकी संवेदनशीलता का मामला उतना खतरनाक नहीं है, जितना कि उनका रखरखाव करने वाले संस्थानों में स्थिरता न होना बेहद खतरनाक है।

ऐसे में पाकिस्तान में इन हथियारों को ताकत का संतुलन बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। पाकिस्तान के जिहादी गुट की अगुवाई कट्टरपंथियों के हाथों में है और ये गुट खुद पाकिस्तान के लिए भी खतरा है।

Comments

Most Popular

To Top