International

अब घर लौटना चाहती है, आईएस (IS) आतंकी बनी जर्मन लड़की

बगदाद। इराक की मोसुल सिटी से गिरफ्त में ली गई आईएस से जुड़ी जर्मन लड़की लिंडा वेंजेल वापस अपने घर जाना चाहती है। उसे इस्लामिक स्टेट (IS) ज्वाइन करने के अपने फैसले पर बहुत पछतावा है। बता दें लिंडा 2016 में इराक पहुंची थी, तब उसकी उम्र सिर्फ 16 साल थी। ड्रेस्डन में सीनियर प्रॉसीक्यूटर लोरेंज हासे ने कहा, लिंडा वेंजेल नाम की लड़की की पहचान कर ली गई है। उन्होंने बताया कि इस वक्त वो इराक में सिक्युरिटी फोर्सेस के कब्जे में है। उसे कांसुलर मदद मुहैया कराई जा रही है।





लोकल मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लिंडा उन चार जर्मनी लड़कियों में शामिल है जो आईएस से जुड़ी थीं। जर्मनी की कई न्यूज एजेंसी ने बताया कि बगदाद में मिलिट्री अस्पताल में लिंडा ने इंटरव्यू के दौरान कहा है कि वह इराक छोड़ना चाहती है। पूर्वी जर्मनी के पुल्सनित्ज सिटी में रहने वाली लिंडा इंटरनेट के जरिए आईएस आतंकियों के संपर्क में आई थी।

इसके बाद वह बिना घर में बताए इराक पहुंच गई थी। हालांकि, लिंडा के आतंकी बन जाने की बात खुफिया एजेंसीज ने पता लगा ली थीं।

ऐसे आईएस के गढ़ पहुंची लिंडा

लिंडा वेंजेल

लिंडा इंटरनेट के जरिए आईएस आतंकियों के संपर्क में आई थी (फाइल फोटो)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

जर्मन पुलिस के अनुसार, लिंडा को एक आतंकी से प्यार हो गया था। उससे मिलने के लिए लिंडा सीरिया जा पहुंची थी। यहां आने के बाद लिंडा ने आतंकी से शादी कर ली और खुद भी आईएस की आतंकी बन गई। इसके बाद दोनों सीरिया से इराक के मोसुल आ पहुंचे थे।

बता दें हाल ही में इराकी और गठबंधन सेनाओं ने इराक की मोसुल सिटी को आईएस आतंकियों से आजाद करा लिया है। बचे आतंकी जान बचाकर इधर-उधर भाग रहे हैं। अब तक सैकड़ों आतंकियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इन्हीं में लिंडा भी शामिल है। लिंडा को जब पकड़ा गया, तब वे बुर्के में थी। वहीं उसकी कुछ महिला साथियों ने शरीर में विस्फोटक बांध रखे थे।

लिंडा ने घर वालों से झूठ बोला था

मीडिया को दिए इंटरव्यू में लिंडा के परिवारवालों ने बताया था कि 2016 में लिंडा के व्यवहार में परिवर्तन दिखाई देने लगा था। हमेशा बिंदास लाइफ जीने वाली लिंडा ज्यादातर समय घर में ही बिताती थी और किसी लड़के से चैट करती रहती थी।

लिंडा ने अरबी भाषा सीखनी शुरू कर दी थी और घर में ही अकसर अरबी के शब्द बोलती थी। स्कूल के बैग में कुरान भी रखने लगी थी। सितंबर, 2016 में लिंडा ने घर में बताया कि वह पास ही की एक सिटी में रहने वाली अपनी दोस्त के घर रहने जा रही है, लेकिन उसके बाद वापस नहीं लौटी। फिर इराक के मोसुल में गिरफ्तार किए जाने के बाद लिंडा की पहचान हो पाई।

Comments

Most Popular

To Top