International

आतंकवाद की पनाहगाह न बने पाकिस्तान: जेम्स मैटिस

जेम्स मैटिस

वॉशिंगटन। अमेरिका के रक्षा मंत्री का कहना है कि पकिस्तान यदि अपनी जिम्मेदारियों को भली प्रकार निभाने का तरीका ढूंढ ले और आतंकवाद को अपनी जमीन पर पनाह न दे तो उसे भारत की तरफ से आर्थिक लाभ मिल सकते हैं। अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के सदस्यों से यह बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार का रूख बहुत स्पष्ट है और पाकिस्तान से उसकी जो अपेक्षा है उसे लेकर वह दृढ़ है। उनका प्रशासन बदलाव लाने के लिए सरकार के सभी आयामों का इस्तेमाल कर रहा है।





मैटिस का यह बयान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दक्षिण एशिया नीति घोषित करने के कुछ सप्ताह बाद आया है दक्षिण एशिया नीति में ट्रंप ने पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। रक्षा मंत्री ने कहा कि ट्रंप प्रशासन का मानना है कि जब तक पकिस्तान आतंकवाद को पनाह देना खत्म नहीं करता, तब तक न केवल अफगानिस्तान बल्कि पाकिस्तान और भारत के आसपास किसी भी तरह स्थिरता कायम करना काफी मुश्किल होगा।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत दौरे के बाद निर्मला सीतारमण से बातचीत के बाद उन्हें यह महसूस हुआ है कि भारत अफगानिस्तान को मदद जारी रखने और विकास के लिए उसके प्रयासों को और अधिक व्यापक करने के लिए प्रतिबद्ध है। आपको बता दें कि जेम्स मैटिस कुछ ही दिन पहले भारत आए थे।

समिति के चेयरमैन सीनेटर जॉन मैक्केन ने कहा कि ट्रंप ने कहा है कि वह आतंकवादियों को प्रश्रय देने वाले पाकिस्तान के प्रति अमेरिका का रूख बदलेंगे। ये आतंकवादी अमेरिकी सेवा के सदस्यों और अधिकारियों को निशाना बनाते हैं।

Comments

Most Popular

To Top