International

रिश्तों में कड़वाहट: आसियान सम्मेलन में चीन पर प्रहार

मनीला। भारत और चीन के बीच चल ही रही है उधर दक्षिण पूर्व एशिया के देशों ने, खासतौर से वियतनाम ने चीन के बर्ताव को लेकर अपने कड़े रुख का इजहार किया है। वियतनाम के जोर देने के बाद आसियान देशों के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन के मौके पर जारी संयुक्त विज्ञप्ति में कहा गया है कि दक्षिण चीन सागर के सैन्यीकरण को रोका जाए। इन देशों ने कोरिया प्रायद्वीप में चल रहे तनाव को लेकर भी चिंता व्यक्त की है।





विदेश मंत्रियों का सम्मेलन शुरू होने के पहले वियतनाम ने दक्षिण चीन सागर में चीनी गतिविधियों को लेकर अपनी आपत्ति व्यक्त की थी। बावजूद इसके आसियान का शुरुआती रुख लचीला और चीन के प्रति नरमी भरा था। पहले संयुक्त बयान का जो प्रारूप जारी हुआ था, उसमें ये बातें नहीं थी। पर रविवार को जारी संयुक्त वक्तव्य में चीन के प्रति कड़ाई व्यक्त की गई। इस वक्तव्य के बाद सोमवार को अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि दक्षिण चीन सागर में चीन का कृत्रिम द्वीप तैयार करना और फौजी तैनाती चिंता का विषय है।

फिलीपींस ने चीन के प्रति नरम रुख अपनाया

इन तीनों ने यह भी कहा कि पिछले साल संयुक्त राष्ट्र पंचाट ने दक्षिण चीन सागर को लेकर जो फैसला सुनाया है उसका भी आदर किया जाना चाहिए। मूलतः यह विवाद चीन और फिलीपींस के बीच था, पर पिछले कुछ समय से फिलीपींस ने चीन के प्रति अपना रुख नरम कर लिया है। विदेश मंत्रियों की यह बैठक फिलीपींस की राजधानी में हो रही है। इसलिए यहाँ जारी होने वाले संयुक्त वक्तव्य का सांकेतिक महत्व भी है। सम्मेलन के साइडलाइंस पर हुई बैठक में वियतनाम के कड़े रुख के बाद संयुक्त वक्तव्य में चीन के प्रति कड़े शब्द शामिल किए गए।

उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों से बढ़ा तनाव

आसियान देशों के विदेश मंत्रियों के मनीला में चल रहे सम्मेलन में जारी संयुक्त वक्तव्य में कहा गया है कि उत्तर कोरिया संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के अनुरूप अपने नाभिकीय कार्यक्रम पर लगाम लगाए। आसियान के इस बयान में कहा गया है कि उत्तरी कोरिया ने 4 और 28 जुलाई तो अंतरमहाद्वीपीय प्रक्षेपास्त्रों का जो परीक्षण किया है, उससे इस इलाके में तनाव बढ़ गया है। इससे इस इलाके की सुरक्षा और शांति के लिए खतरा पैदा हो गया है। आसियान ने यरूशलम की अल-अक्सा मस्जिद को लेकर हाल में उठाए गए इजरायली कदमों को लेकर भी चिंता व्यक्त की है।

Comments

Most Popular

To Top