Forces

VIDEO: भारतीय नौसेना को समर्पित होगा पनडुब्बी बचाव पोत

डीप सबमर्जेंस रेस्क्यू वेहीकल (DSRV)
डीप सबमर्जेंस रेस्क्यू व्हेकल ( DSRV)

नई दिल्ली। पनडुब्बियां यदि दुर्भाग्य से दुर्घटनाग्रस्त हो जाएं तो उन पर सवार नौसैनिकों को बचाने वाला पोत भारतीय नौसेना के पास अब तक नहीं था। लेकिन पहली बार नौसेना  में मंगलवार को ऐसा बचाव पोत शामिल किया जाएगा जिसे नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा नौसेना और राष्ट्र को समर्पित करेंगे।





डीप सबमर्जेंस रेस्क्यू वेहीकल ( DSRV) के नौसेना में शामिल होने के बाद भारत दुनिया में उन चुने हुए देशों में शामिल होगा जिसके पास अपना पनडुब्बी बचाव पोत होगा। इस पोत के जरिये एक साथ 14  नौसैनिकों को  दुर्घटनाग्रस्त पनडुब्बी से बचा कर निकाला जा सकता है। देश में बना यह पोत पिछले दिनों से परीक्षण के दौर से गुजर रहा था। गत 15 अक्टूबर को इस पोत ने समुद्र की सतह से  300  फीट नीचे एक पनडुब्बी के पास जा कर नौसैनिकों को सुरक्षित निकालने का सफल परीक्षण किया था। इन परीक्षणों के दौरान यह पोत समुद्र की सतह से 666 मीटर नीचे डुबकी लगाने में कामयाब हुआ था। यह किसी पोत द्वारा समुद्र की सर्वाधिक गहराई में जाने का एक रिकार्ड  था। इस पूरे पोत को वायुसेना के किसी परिवहन विमान से दुर्घटना स्थल पर कुछ घंटे के भीतर तैनात किया जा सकता है।

Comments

Most Popular

To Top