Forces

स्पेशल रिपोर्ट: आतंकवादियों से लोहा लेने धोनी पहुंचेंगे कश्मीर

महेंद्र सिंह धोनी
फाइल फोटो

नई दिल्ली। खेल के मैदान में विरोधियों के हमले को ध्वस्त करने वाले क्रिकेट के धुरंधर खिलाड़ी महेन्द्र सिंह धोनी अब जंग के मैदान में आतंकवादियों औऱ देश के अन्य  दुश्मनों से दो-दो हाथ  करने को तैयार हुए हैं।





थलसेना की प्रादेशिक सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल के तौर पर नियुक्त  महेन्द सिंह धोनी वर्ल्ड कप में खेलने के बाद अब दो महीने के लिये कश्मीर घाटी में विक्टर फोर्स के साथ तैनात होंगे। वहां वह  गश्ती लगाने, गार्ड ड्यूटी देने और पोस्ट  की ड्यूटी  देंगे।

यहां थलसेना के सूत्रों ने बताया कि लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी 106-टी ए बटालियन (पारा) में  31 जुलाई को रिपोर्ट करेंगे।  विक्टर फोर्स के तहत यह यूनिट कश्मीर घाटी मे तैनात है। सूत्रों ने बताया कि कर्नल घोनी ने खुद आग्रह किया था कि उन्हें कश्मीर घाटी में तैनात किया जाए। इनके इस आग्रह  पर थलसेना मुख्यालय ने मुहर लगाई  और उन्हें 106- टी ए बटालियन में रिपोर्ट करने को कहा गया।  अपनी ड्युटी के दौरान वह सेना के शिविरों में सैनिकों के साथ ही रहेंगे।

गौरतलब है कि धोनी ने  इंगलैंड में हुए वर्ल्ड कप के  समाप्त होने के बाद कहा था कि वह दो महीने तक क्रिकेट से बाहर रहेंगे और  सेना की सेवा करने के लिये अपनी रेजीमेंट में जाएंगे।  थलसेना में  मानद अफसर के तौर पर  धोनी को साल 2011 में भर्ती किया गया था।  चार साल पहले उन्होने थलसेना में पाराट्रूपर  यानी छाताधारी सैनिक की ट्रेनिंग ली थी।  उन्होंने  थलसेना के विमानों से आगरा स्थित ट्रेनिंग कैम्प से  पाराशूट से विमान से कूदने की ट्रेनिंग ली थी।  धोनी ने साल 2011 की विजयी विश्व कप टीम और 2013 में टी-20 वर्ल्ड कप में भारत को विजय दिलाने वाली टीम की अगुवाई की थी।

Comments

Most Popular

To Top