Forces

स्पेशल रिपोर्ट: देश के पहले CDS जनरल रावत ने कहा- राजनीति से हमारा कोई सरोकार नहीं

सीडीएस बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारत के पहले चीफ आफ डिफेंस स्टाफ यानी भारत के प्रधान सेनापति का दायित्व औपचारिक तौर पर  बुधवार को सम्भालने के बाद जनरल बिपिन रावत ने इन आरोपों का खंडन किया  है कि वह देश की राजनीति में हस्तक्षेप करते हैं। प्रधान सेनापति के तौर पर सलामी गारद का निरीक्षण करने के बाद जनरल रावत ने कहाकि  हमारा राजनीति से कोई सरोकार नहीं है।  हम तटस्थ रहेंगे।





 उन्होंने कहा कि हम सत्तारुढ़ सरकार के निर्देशों पर ही चलेंगे। गौरतलब है कि जनरल रावत ने कई बार देश के घरेलू हालात पर टिप्पणी की है जिससे उन पर इस आशय के आरोप लगाए गए कि वह राजनीति में दखल दे रहे हैं। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने नागरिकता कानून के विरोध में देश  भर में फैली हिंसा पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि युवकों को सही नेतृत्व मिलना चाहिए।

जनरल रावत ने कहा कि  हम आपको यह भरोसा दिलाना चाहेंगे कि  थलसेना, वायुसेना और नौसेना एक टीम के तौर पर काम करेगी। प्रधान सेनापति के कार्यालय से तीनों सेनाओं को नियंत्रित किया जाएगा लेकिन  टीम वर्क के जरिये ही हम कोई काम करेंगे। हम हथियारों की खरीद प्रक्रिया में एकरूपता लाने की कोशिश करेंगे ताकि सेना, वायुसेना और नौसेना तालमेल से काम कर सकें। उन्होंने कहा कि सीडीएस की जिम्मेदारी तीनों सेनाओं को एककर उन्हें सक्षम बनाना होगा।

 गौरतलब है कि जनरल रावत के सीडीएस का पद सम्भालने के बाद विपक्षी कांग्रेसी नेताओं ने सवाल खड़े किये थे।

सशस्त्र सेनाओं का एकीकरण काफी जटिल चुनौती होगा।  तीनों सेनाओं के संसाधनों का संतुलित इस्तेमाल करने और संयुक्त थियेटर कमांड की  ओर उन्हें तेजी से बढ़ना होगा।  सामरिक हलकों में माना जा रहा है कि चीफ आफ डिफेंस स्टाफ की हैसियत से जनरल रावत  इस बारे में  जल्द की समुचित  पहल करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top