Forces

स्पेशल रिपोर्ट: सैन्य कमांडरों के साथ सेना प्रमुख की अहम बैठक

सेना प्रमुख नरवाणे
फाइल फोटो

नई दिल्ली। चीन के साथ गत तीन महीने से पूर्वी लद्दाख के इलाकों में चल रही सैन्य तनातनी के बीच थलसेना  प्रमुख जनरल मनोज मुकंद नरवाणे ने पूर्वी कमांड के आला सैन्य कमांडरों के साथ अहम बैठक कर चीन के खिलाफ सैन्य चौकसी औऱ तैयारी की समीक्षा की है।





इस इरादे से जनरल नरवाणे  ने असम के तेजपुर थलसैनिक स्टेशन पर  गुरुवार शाम को पहुंचे जहां उन्होंने गजराज कोर मुख्यालय का दौरा किया। तेजपुर में उन्होंने पूर्वी थलसैनिक कमांड के   जनरल आफीसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान  से  आपरेशनल और प्रशासनिक मसलों के बारे में जानकारी ली।

थलसेना प्रमुख ने पूर्वी थलसैनिक कमांड के सभी कोर कमांडरों के साथ बैठक की। पूर्वी थलसैनिक कमांड अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम से लगे सीमांत इलाकों की चौकसी करती है। इन बैठकों के दौरान थलसेना प्रमुख ने सभी कोर कमांडरों के साथ उनके इलाके के सुरक्षा हालात की जानकारी ली।  इस इलाके में तैनात सैनिकों की उच्च स्तर की समाघात तैयारी की उन्होंने सराहना की।

 देश की प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने के लिये सैनिकों के जोश की थलसेना  प्रमुख ने सराहना की।  उन्होंने सभी रैंक के सैनिकों का उत्साहवर्द्धन किया।  तेजपुर के बाद थलसेना प्रमुख थलसेना के मध्य कमांड पहुंचे। इस कमांड के तहत उत्तराखंड औऱ हिमाचल प्रदेश का इलाका आता है।

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख के इलाके में भारतीय सैनिकों के साथ तनाव पैदा करने के बाद चीनी सेना ने अरुणाचल प्रदेश से लेकर उत्तराखंड के इलाकों में भी दबाव बढा दिया है।

 चीन से लगने वाली सम्पूर्ण 3488 किलोमीटर के इलाके में भारतीय सेना चौकस है और  किसी भी सैन्य चुनौती का जवाब देने के लिये तैयार है।

Comments

Most Popular

To Top