Forces

स्पेशल रिपोर्ट: बड़ी लड़ाई छिड़ सकती है- जनरल बिपिन रावत

सेनापति बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारत के प्रधान सेनापति जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाकों में हालात तनावपूर्ण चल रहे हैं और वहां हालात किसी बड़ी लड़ाई में तब्दील होने की सम्भावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।





तनाव वाले इलाकों में सैन्य तनाव घटाने के लिये 06 नवम्बर को चल रही आठवें दौर की सैन्य कमांडर बातचीत के बीच प्रधान सेनापति ने यहां नैशनल डिफेंस कालेज के हीरक जयंती समारोह के दौरान आयोजित एक वेबीनार को सम्बोधित करते हुए कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा को खिसकाने के किसी भी प्रस्ताव को भारत कभी भी स्वीकार नहीं करेगा।

जनरल रावत ने कहा कि हमारा रुख बिलकुल साफ है। हम वास्तविक नियंत्रण रेखा को खिसकाने को कभी भी स्वीकार नहीं करंगे। सम्पूर्ण सुरक्षा आकलन, सीमा टकराव, अतिक्रमण और बिना उकसावे के की गई सैन्य कार्रवाई को बडे संघर्ष में तब्दील होने से नहीं रोका जा सकता है। पूर्वी लद्दाख में हालात की चर्चा करते हुए जनरल रावत ने कहाकि हालात तनावपूर्ण चल रहे हैं। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी को पूर्वी लद्दाख में किये गए दुस्साहस के अप्रत्याशित नतीजे भुगतने पड रहे हैं क्योंकि लद्दाख में भारत ने अपने मजबूत संकल्प का प्रदर्शन किया है।

जनरल रावत ने कहा कि आपसी सांठगांठ कर रहे परमाणु हथियारों से लैस दो देशों के साथ लगातार चल रहे तनाव की वजह से क्षेत्रीय सामरिक अस्थायित्व का खतरा पैदा होता है जिसके भडकने की शंका बनी रहती है जिससे हमारी राष्ट्रीय एकता और सामरिक सामंजस्य पर खतरा पैदा होता है। प्रधान सेनापति ने यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान द्वारा लगातार चलाए जा रहे भाड़े के युद्ध के साथ सोशल मीडिया पर भारत विरोधी अभियान और भारत में सामाजिक तनाव पैदा करने की कोशिशों से भारत पाक रिश्ते काफी खराब हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि उडी आतंकवादी हमला के बाद बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया है कि परमाणु हथियार की आड़ में वह नियंत्रण रेखा के पार आतंकवादी भेजते रहे तो उसका दंड भुगतना होगा। चीफ आफ डिफेंस स्टाफ ने कहा कि गिरती हुई अर्थव्ववस्था, घरेलू समस्याओं और अंतरराष्ट्रीय अलगाव के बावजूद पाकिस्तान जम्मू कश्मीर का एजेंडा नहीं छोड़ेगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमेशा यह कहता रहेगा कि उसकी सेना अपने वजूद को बचाने की बात कहती रहेगी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सशस्त्र इस्लामी विद्रोह और आतंकवाद का गढ़ बना हुआ है।

Comments

Most Popular

To Top