Forces

स्पेशल रिपोर्ट: सेना प्रमुख नरवाणे चीनी सीमांत इलाकों के दौरे पर

जनरल मुकुंद नरवणे
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाकों में भारत और चीन के बीच बढे सैन्य तनाव के बीच थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया गुरुवार को चीन से लगे सीमांत इलाकों का दौरा किया और नवीनतम सुरक्षा हालात का गहन जायजा लिया। दोनों सेना प्रमुखों ने इन इलाकों में तैनात थलसैनिक और वायुसैनिक अफसरों और जवानों से मुलाकात कर उनका मनोबल और जोश बढाया।





इस बीच पूर्वी लद्दाख के चुशुल इलाके में भारत और चीन की सेनाओं के बीच तनातनी दूर करने के लिये ब्रिगेडियर स्तर की चौथे दिन भी वार्ता जारी रही। सूत्रों ने बताया कि चुशुल में यह बैठक खुले में हुई। आम तौर पर इस तरह की बैठकें बार्डर पर्सनल मीटिंग के लिये बनाए गए हट में होती है।

चीन के अडियल और आक्रामक रवैये के बीच थलसेना प्रमुख जनरल नरवाणे ने लद्ददाख के सीमांत इलाकों का दो दिनों का दौरा गुरवार को शुरु किया। गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी इलाकों में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी बढ गई है। भारतीय सैन्य सूत्रों ने वहां के हालात को अत्यधिक नाजुक बताया है।

दूसरी ओर वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने पूर्वी सेक्टर में वायुसेना की तैयारी का जायजा लिया । इस दौरान उन्होंने मौजूदा क्षमता को और बढाने के ताजा कदमों की समीक्षा की। उन्होंने पूर्वी वायुसैनिक कमांड के हवाई योद्धाओं से भी मुलाकात की।

सूत्रों के मुताबिक भारतीय वायुसेना ने पूर्वी वायुसैनिक कमांड के तहत तैनात लडाकू विमानों की समाघात स्थिति का जायजा लिया। गौरतलब है कि पूर्वी वायुसैनिक कमांड का मुख्यालय कोलकाता में है। इसके तहत सक्रिय सभी वायुसैनिक अड्डों पर लडाकू विमानों को किसी भी आपात सूचना के मिलते ही हमला करने औऱ रक्षात्मक कार्रवाई के लिये तैयार रखा गया है।

Comments

Most Popular

To Top