Forces

स्पेशल रिपोर्ट : जनरल बिपिन रावत को अमेरिका की दी बधाई

सेना प्रमुख बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारत के पहले चीफ आफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त किये  जाने   पर जनरल बिपिन  रावत को  अमेरिका के विदेश विभाग के अलावा यहां अमेरिकी राजदूत केन जस्टर ने बधाई देते हुए उम्मीद जाहिर की है कि भारत और अमेरिका के रक्षा सहयोग के   रिश्तों  को और मजबूती मिलेगी।





यहां अमेरिकी राजदूत केनेथ जस्टर  ने जनरल बिपिन रावत को बधाई देते हुए कहा कि चीफ आफ डिफेंस स्टाफ के तौर पर नामजद किये जाने पर हार्दिक बधाई। राजदूत ने कहा कि जैसा कि  दोनों देशों के विदेश और रक्षा मंत्रियों की टू प्लस टू बातचीत में इस पर सहमति हुई थी भारत और अमेरिका आपसी रक्षा रिश्तों को औऱ गहराई देंगे। इसके तहत दोनों देश संयुक्त अभ्यास करेंगे और सूचनाओं का आदान प्रदान करेंगे।

राजदूत जस्टर ने कहा कि भारत के प्रधान सेनापति नियुक्त किये जाने के बाद वह भारत अमेरिका रक्षा साझेदारी को और मजबूती प्रदान करने की उम्मीद कर रहे हैं। राजदूत ने अपने ट्वीट  बधाई संदेश में भारत अमेरिका को वन टीम वन मिशन की संज्ञा दी।

गौरतलब है कि जनरल रावत ने मंगलवार की सुबह  थलसेना प्रमुख के पद से अवकाश ग्रहण किया और अब वह देश के पहले चीफ आफ डिफेंस स्टाफ का दायित्व सम्भालेंगे।  अवकाश ग्रहण करने के बाद उन्होंने पूर्वी थलसैनिक कमांड के प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे को 28वां थलसेना प्रमुख का दायित्व सौंपा।

जनरल रावत बुधवार को सुबह चीफ आफ डिफेंस स्टाफ का पद औपचारिक तौर पर सम्भालने के पहले  उन्हें रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय साउथ ब्लाक पर स्वागत के तौर पर सलामी गारद पेश किया जाएगा।

इस पद का दायित्व सम्भालने के पहले मीडिया के सवालों के जवाब में जनरल रावत ने कहा कि वह अपने नये पद के दायित्वों को सफलतापूर्वक निभाने के लिये अपनी रणनीति तय करेंगे।

पूर्व थलसेनाप्रमुख जनरल  वी पी मलिक ने बधाई देते हुए कहा है कि इस पद की लम्बे अर्से  से प्रतीक्षा की जा रही थी। इस पद से भारतीय सशस्त्र सेनाओं की लड़ाकू क्षमता को एकजुट किया जा सकेगा। इससे नागिरक सेना सम्बन्धों   में तालमेल बैठाया जा सकेगा। सीडीएस के पद   से राजनीतिक नेतृत्व को सिंगल प्वाइंट सैनिक सलाह की भूमिका मिलने से सीडीएस को निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल किया जा सकेगा।

जनरल रावत ने कहा कि  थलसेना प्रमुख का  पद कई जिम्मेदार

Most Popular

To Top