Navy

Special Report: समुद्री हितों की रक्षा के लिए नौसेना तैयार

भारतीय नौसेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। देश के समुद्री हितों की रक्षा के लिये भारतीय नौसेना द्वारा निभाई जा रही भूमिका की रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सराहना की है। यहां नौसेना के कमांडरों के छमाही सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने भरोसा जाहिर करते हुए कहाकि रणनीतिक जरुरतों के अनुरुप भारतीय नौसेना अपने युद्धपोत और विमान को तैनात करने के लिये पूरी तरह तैयार है।





पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना के साथ चल रही सैन्य तनातनी के बीच रक्षा मंत्री ने नौसेना की तैयारी पर यह अहम बयान दिया है।

कोविड-19 महामारी द्वारा पेश असाधारण चुनौती का मुकाबला करने में नौसेना द्वारा जिस तरह आपरेशन समुद्र सेतु अभियान का संचालन करने के लिये उन्होंने नौसेना को बधाई दी और कहा कि राष्ट्रीय हितों के संवर्धन में योगदान दिया। उन्होंने कहा कि समुद्री हालात चुनौतीपूर्ण होने के बावजूद नौसेना ने अदृश्य दुश्मन कोरोना की चुनौतियों से निबटा। इस दौरान हिंद महासागर के तटीय देशों में फेंसे चार हजार से अधिक भारतीयों को स्वदेश लाने में कामयाबी पाई। इसके अलावा मिशन सागर के तहत तटीय देशों को चिकित्सा मदद पहुंचाई गई । इन देशों में मालदीव, मारीशस, सेशल्स, कोमोरोस और मैडगास्कर शामिल हैं।

जून , 2017 में जब से भारतीय नोसेना ने मिशन आधारित तैनाती की नीति अपनाई है उससे भारतीय समुद्री हितों की रक्षा मं मदद मिली है। इससे समुद्री रणनीतिक हालात की नियमित जानकारी हासिल हुई और इनकी वजह से त्वरित मानवीय सहायता प्रदान की जा सकी।

सशस्त्र सेनाओं में भारी बदलावों की बात करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रधान सेनापति का पद और सैन्य मामलों का विभाग ( DMA) का गठन किया गया है जिससे तीनों सेनाओं में तालमेल बनाने में मदद मिली है। इस वजह से तीनों सेनाओं के बीच साझा और संयुक्त समाघात कार्रवाई की योजना बनने लगी है। उन्होंने कहाकि कोविड-19 की चुनौतियों के बावजूद भारतीय नौसेना आपरेशनल, प्रशासनिक और आधुनिकीकऱण प्रयासों में तेजी ला सकी है।

नौसेना के कमांडरों के सम्मेलन का उद्घाटन करने के लिये पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अगवानी नौसेना प्रमुख एडमिरल कर्मबीर सिंह ने की। तीन दिनों तक चलने वाले इस सम्मेलन में रक्षा मंत्रालय के आला अधिकारी मौजूद हैं। इस सम्मेलन में नोसैनिक कमांडर भविष्य की चुनौतियों से मुकाबला करने की रणनीति पर विचार करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top