Navy

स्पेशल रिपोर्ट: INS खंडेरी अक्टूबर तक भारतीय नौसेना में होगी शामिल

INS खंडेरी
फाइल फोटो

नई दिल्ली। स्कॉरपीन वर्ग की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी आगामी सितम्बर या अक्टूबर तक भारतीय नौसेना में औपचारिक तौर पर शामिल हो जाएगी। इन दिनों इस पनडुब्बी का गहन समुद्री परीक्षण चल रहा है। गौरतलब है कि भारतीय नौसेना ने समुद्री परीक्षण के दौरान इसमें 35 खामियां पाईं थी जिसे इसकी निर्माता कम्पनी नेवल ग्रुप द्वारा  दूर करवा देने की जानकारी नौसैनिक अधिकारियों ने दी है।





नौसैनाध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह ने यहां एक सम्मेलन के दौरान यह जानकारी दी। खंडेरी को कमीशन करने की पुष्टि करते हुए नौसेना प्रमुख ने कहा कि स्कॉरपीन वर्ग की पनडुब्बियों का काम संतोषजनक चल  रहा है।   इस वर्ग की पहली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी को इस साल मार्च में नौसेना में कमीशन किया गया था। कलवरी वर्ग की ऐसी  छह पनडुब्बियों का निर्माण मुम्बई की मझगांव गोदी में करीब 26 हजार करोड़ रुपये की लागत से  चल रहा है। प्रोजेक्ट-75 के तहत इसका सौदा अक्टूबर, 2005 में किया गया था।

यह पनडुब्बी समुद्र में शांत रहने वाली और दुश्मन की नजरों से ओझल रहने की क्षमता वाली मानी जाती है। दुनिया की सबसे स्टील्थ क्षमता वाली डीजल पनडुब्बी कही गई है। यह पनडुब्बी दुश्मन के पोतों पर अचूक निशाना लगाने की क्षमता रखती है। यह पनडुब्बी महासागरों में टोही भूमिका में दुश्मन की नौसैनिक गतिविधियों की खुफिया जानकारी हासिल कर सकती है। यह पनडुब्बी समुद्र के भीतर पनडुब्बी नाशक युद्ध में तो माहिर है ही सतह पर विचरण करने वाले पोतों के खिलाफ भी संहारक हमले कर सकती है।

खंडेरी के नौसेना में शामिल होने से भारतीय नौसेना की हिंद महासागर में चौकसी क्षमता में भारी इजाफा होगा। भारतीय नौसेना की घटी हुई पनडुब्बी क्षमता के मद्देनजर खंडेरी के कमीशन होने से भारतीय नौसेना को काफी राहत मिलेगी।

Comments

Most Popular

To Top