Navy

Special Report: भारत और सऊदी अरब के बीच होगा पहला नौसैनिक अभ्यास

भारतीय नौसेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत और सऊदी अरब के बीच पहली  बार साझा नौसैनिक अभ्यास  आगामी दिसम्बर के अंत में आयोजित होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 29 अक्टूबर को सऊदी अऱब दौरे में नौसैनिक अभ्यास के कार्यक्रम को हरी झंडी दी जाएगी।





इसके अलावा भारत और सऊदी अरब के बीच आपसी सामरिक औऱ रक्षा सहयोग को पुख्ता  रुप देने के लिये  सहयोग के कई औऱ कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया जाएगा। भारत सऊदी अऱब को भारत के रक्षा उद्योग में निवेश करने के लिये आमंत्रित करेगा। दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग के समझौते पर पहले ही हस्ताक्षर हुए हैं।

दोनों देश आपसी  सामरिक और अन्य मसलों पर चर्चा करने के लिये सामरिक साझेदारी परिषद की स्थापना पर सहमत हुए हैं जिस पर हस्ताक्षर प्रधानमंत्री मोदी के सऊदी अरब दौरे में  किये जाएंगे। इस परिषद की अध्यक्षता प्रधानमंत्री मोदी और किंग अब्दुल्ला करेंगे। इस परिषद  के अधीन दो ईकाईयां स्थापित होंगी जिसकी अगुवाई विदेश और वाणिज्य मंत्री करेंगे। इस परिषद के जरिये दोनों देश आपसी महत्व के मसलों को चर्चा करेंगे औऱ इन पर आवश्यक दिशा निर्देश जारी करेंगे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सऊदी किंग मुहम्मद बिन सलमान के निमंत्रण पर एक दिन के दौरे पर  29 अक्टूबर को रियाद जाएंगे। विदेश मंत्रालय  में सचिव  टी एस तिरुमूर्ति ने यहां प्रधानमंत्री के दौरे की जानकारी देते हुए सवालों के जवाब में बताया कि सऊदी किंग से पाकिस्तान के रवैये के बारे में भी चर्चा होगी। विदेश मंत्रालय में सचिव ने बताया कि पाकिस्तान के मसले पर सऊदी किंग से बातचीत का जबर्दस्त  असर पाकिस्तान पर पड़ा है।

अधिकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी के दौरे में नवीकरणीय ऊर्जा को लेकर भी सहयोग के एक समझौते पर हस्ताक्षर होंगे।  सऊदी अरब में भारतीय मूल के 26 लाख कामगार रहते हैं जो भारत और सऊदी रिश्तों में एक अहम कड़ी हैं।

सऊदी अऱब भारत के पश्चिमी तट पर भारत का सबसे बड़ा तेल शोधक कारखाना भी लगाने जा रहा है जिस पर प्रधानंत्री के दौरे में बातें होंगी। सऊदी दौरे में प्रधानमंत्री मोदी एक निवेश सम्मेलन को भी सम्बोधित करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top