Navy

Special Report: समुद्री सुरक्षा में नौसेना की भूमिका को रक्षा मंत्री ने सराहा

राजनाथ सिंह मीटिंग के दौरान

नई दिल्ली। समुद्री संचार मार्ग को सुरक्षित रखने में भारतीय नौसेना की अहम भूमिका बताते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था को साल 2025 तक  पांच ट्रिलियन की ऊंचाई तक पहुंचाने के लिये एक सुरक्षित और स्थिर समुद्री माहौल की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारतीय नौसेना इसमें अहम भूमिका निभा रही है।





यहां नौसेना के कमांडरों के सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि  इस साल मई और जून में जिस तरह ओमान की खाड़ी में  भारतीय नौसेना  ने भारतीय व्यापारिक पोतों की सुरक्षा के लिये अपने युद्धपोत तैनात किये वह सराहनीय था। इसके लिये भारतीय नौसेना ने ऑपरेशन  संकल्प चलाया। इस दौरान  भारतीय ध्वज वाले पोतों को भारतीय नौसेना ने अपनी सुरक्षा में  संकटग्रस्त इलाके से बाहर निकाला।

वैश्विक आतंकवाद की चर्चा करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि यह सभी सुरक्षा बलों के लिये बड़ी चुनौती बना हुआ है।  26/11  के मुम्बई पर आतंकवादी हमलों के बाद नौसेना ने  भारतीय सागरीय इलाके में चौकसी औऱ सुरक्षा के मजबूत इंतजाम किये हैं। इसके लिये विभिन्न एजेंसियों औऱ विभागों में समुचित तालमेल स्थापित किया गया।  राजनाथ सिंह ने कहा कि साल 2008 के बाद से अदन की खाड़ी में  भारतीय नौसेना समुद्री डाकुओं के खिलाफ अभियान चला रही है।  इसके जरिये समुद्री सुरक्षा बनाए रखने में नौसेना ने अभूतपूर्व योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि यह भूमिका प्रधानमंत्री की  सोच के अनुरूप है।

हाल में कई इलाकों में प्राकृतिक आपदाओं के बाद राहत व बचाव कार्य में  नौसेना के योगदान को रक्षा मंत्री ने सराहा। उन्होंने कहा कि नौसेना ने समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये स्वदेशीकरण के प्रयासों को काफी सफल बनाया है। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारतीय नौसेना ‘मेक इन इंडिया’ के राष्ट्रीय लक्ष्य को हासिल करने में अपना योगदान कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय नौसेना भारतीय कूटनीति के औजार के तौर पर भूमिका निभा रही है

Comments

Most Popular

To Top