Forces

नौसेना खरीदेगी पनडुब्बियों के लिए हेवीवेट टॉरपीडो

नई दिल्ली। खबर है कि भारतीय नौसेना ने पनडुब्बियों के लिए हेवीवेट टॉरपीडो की खरीद के लिए दुनिया के कुछ निर्माताओं से संपर्क साधा है। हेवीवेट टॉरपीडो पनडुब्बियों के लिए बेहद जरूरी होते हैं। भारतीय नौसेना को इनकी सख्त जरूरत है और उनकी कमी है।





नौसेना को करीब तीन दशक के इंतजार के बाद इस महीने आधुनिक कलवरी क्लास की पनडुब्बी मिलने जा रही है। इन पनडुब्बियों में हेवीवेट टॉरपीडो नहीं होंगे। उनका इंतजाम नौसेना को करना होगा। टॉरपीडो के नहीं होने पर ये पनडुब्बियाँ निष्प्रभावी होंगी। इस क्लास की दूसरी पनडुब्बी इस साल के आखिर तक नौसेना के पास आ जाएगी।

इस साल मई में भारत ने 98 ब्लैक शार्क हेवीवेट टॉरपीडो की खरीद का सौदा रद्द किया था। यह सौदा करीब 20 करोड़ डॉलर का था। इस टॉरपीडो की निर्माता ह्वाइटहैड एलेनियासिस्तेमी सुबास्की(WASS) कंपनी इतालवी शस्त्र निर्माता फिनमेकानिका की सहायक कंपनी है। जब यह जानकारी सामना आई कि फिनमेकानिका की एक और सहायक कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड ने 12 मीडियम लिफ्ट हेलिकॉप्टर बेचने के लिए घूस दी थी, तो इस इतालवी कंपनी को भारत सरकार ने काली सूची में डाल दिया।

रक्षा-उद्योग से जुड़े सूत्रों के अनुसार मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत विदेशी निर्माता को एक भारतीय सहयोगी चुनकर स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप के रास्ते से इनका भारत में उत्पादन करना होगा। भारत सरकार ने रक्षा उद्योग के स्वदेशीकरण और उसमें निजी उद्योगों की भागीदारी बढ़ाने के लिए यह योजना बनाई है। इस प्रकार तैयार रक्षा सामग्री का निर्यात भी किया जा सकेगा।

Comments

Most Popular

To Top