Forces

पुरुष से महिला बनना भारी पड़ा नौसेना के इस जवान को, गई नौकरी

मनीष-गिरी

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना ने एक जवान को बर्खास्त कर दिया है। बर्खास्तगी की वजह बना है उसका वह फैसला जिसके तहत वह पुरुष से महिला बन गया। नौसेना ने इसे सेवा नियमों का उल्लंघन मानते हुए उसे सेवाओं से मुक्त कर दिया।





मामला यह है कि मनीष गिरी सात वर्ष पहले सिपाही के रूप में मरीन इंजीनियरिंग विभाग में भर्ती हुआ था। पिछले वर्ष उसने 22 दिन की छुट्टी लेकर एक निजी अस्पताल में लिंग परिवर्तन के लिए सर्जरी करा ली। उसने अपना नाम मनीष की जगह शाबी रख लिया। छुट्टियां खत्म होने के बाद वह वापस विशाखापट्टनम स्थित नौसेना बेस में वापस आ गया। कई महीने बाद अब नौसेना उसे नौकरी से निकाल दिया गया। मनीष गिरी को सेवाओं से मुक्त करते हुए नौसेना ने बयान में कहा है कि उसे नियमों के तहत सेवा से मुक्त किया जा रहा है। नौसेना का मानना है कि भर्ती होते वक्त मनीष की जो लैंगिक स्थिति थी, उसमें बदलाव कर उसने भर्ती के नियमों को तोड़ा है और उसे सेवा में बने रहने की इजाजत नहीं दी जा सकती।

बता दें कि नौसेना में नाविक के पद पर सिर्फ पुरुषों की नियुक्ति होती है। नौसेना में इस तरह का पहला मामला सामने आया था इसलिए इस मामले को रक्षा मंत्रालय भेजा गया था। अंततः उसे सेवा से मुक्त करने का फैसला हुआ।

Comments

Most Popular

To Top