DEFENCE

समंदर में दुश्मनों का काल बनेगा INS किलटान, बेड़े में शामिल

आईएनएस-किल्टन

नई दिल्ली। पनडुब्बी को मार गिराने और दुश्मनों को नेस्तनाबूद करने वाला युद्धपोत आईएनएस किलटान सोमवार को भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल किया गया। नौसना के नौसैनिक डॉकयार्ड से जारी बयान में बताय़ा गया है कि कमोर्टा क्लास श्रेणी के चार युद्धपोत में से यह तीसरा युद्धपोत है। युद्धपोत को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारतीय नौसेना को समर्पित किया। विशाखापत्तम के ईस्ट नेवल कमांड को यह युद्धपोत सौंपा गया।  इस अवसर पर एडमिरल सुनील लांबा और तमाम गणमान्य लोग मौजूद थे।





नौसेना के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि नौसेना के इस पोत को डायरेक्टोरेट ऑफ नेवल ने डिजाइन किया है। इसका निर्माण कोलकाता के गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स ने किया है।

आईएनएस किलटान युद्धपोत शिवालिक क्लास, कोलकाता क्लास, आईएनएस कामोर्टा और आईएनएस कदमात के बाद सबसे खतरनाक युद्धपोत है। यह युद्धपोत देश का सबसे घातक युद्धपोत है इसमें कई घातक हथियारों के अलावा सेंसर भी लगे है।

INS किलटन युद्धपोत की विशेषताएं:

  • 3,500 टन वजनी ये युद्धपोत 109 मीटर लंबा है।
  • चार डीजल इंजन इसमें लगे हैं, जो करीब 45 किमी की रफ्तार से चल सकते हैं।
  • साथ में मध्यम दूरी के टॉप, रॉकेट लॉन्चर के हथियार है।
  • युद्धपोत पर हेलिकॉप्टर के लैंडिंग की भी सुविधा है।
  • नौसेना का यह युद्धपोत रासायनिक, जैविक और परमाणु हालात में भी लड़ने में सक्षम है।

Comments

Most Popular

To Top