Forces

राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति राज्योत्सव में होंगे शामिल, सुरक्ष-व्यवस्था में लगेंगे 150 NSG कमांडो

एनएसजी

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्योत्सव की तैयारी जोरों पर है वहीं इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति के शामिल होने को लेकर राजधानी में सुरक्षा कड़ी करने की तैयारी शुरू हो चुकी है। जिसे देखते हुए एनएसजी के कमांडो रायपुर आने वाले हैं। जानकारों के मुताबिक लगभग 150 ब्लैक कमांडो राज्य के आला अधिकारियों के साथ एयरपोर्ट, होटलों और राज्योत्सव स्थल पर सुरक्ष-व्यवस्था चाक-चौबंद करेंगे।





अधिकारियों के अनुसार रूटीन कार्रवाई के मद्देनजर महज रिहर्सल में शामिल होने के लिए कमांडो रायपुर आएंगे पर सूत्रों के मुताबिक कमांडो यहां सुरक्षा स्तर की जांच करेंगे। वीआईपी, वीवीआईपी मूवमेंट के लिए प्रोटोकॉल की मजबूत व्यवस्था की जाएगी।

गौरतलब है कि इंडियन मुजाहिदीन और सिमी के तार प्रदेश से जुड़े निकले हैं। कई बार नक्सली नेटवर्क का पर्दाफाश भी हो चुका है। ऐसे में सुरक्षा को लेकर शहर को बेहद संवेदनशील मानते हुए सेंट्रल लेवल पर सुरक्षा की तैयारी की गई है।

आधुनिक हथियारों से लैस ब्लैक कैट कमांडो को खास जगहों पर सुरक्षा इंतजाम देखने के साथ रिहर्सल भी करेंगे। वीआईपी मूवमेंट के दौरान सुरक्षा का लेवल कैसा हो, इसकी भी जानकारी वे स्थानीय जवानों को देंगे। इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय को जांच रिपोर्ट देंगे।

जानें एनएसजी के बारे में:

एनएसजी का मुख्य कार्य आतंकी गतिविधियों से देश के आंतरिक सुरक्षा को चाक-चौबंद रखना होता है। यह गृह मंत्रालय के अधीन काम करता है। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड की स्थापना वर्ष 1984 में की गई। उस वक्त पंजाब में अलग राज्य की मांग ने आंदोलन का रूप ले लिया था। पंजाब में सुरक्षा-व्यवस्था का माहौल खराब था। कानून-व्यवस्था बनाए रखने और आतंकी हमलों को रोकने के मद्देनजर स्पेशल फोर्स की आवश्यकता थी जिसे देखते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड की स्थापना की गई।

एनएसजी को क्यों कहा जाता है क कैट ?

NSG के कमांडो हमेशा काले रंग का जैकेट और बॉडी प्रोटेक्टर पहने रहते हैं। यह ऊपर से लेकर नीचे तक काले रंग का होता है, इसलिए ये ‘ब्लैक कैट’ कहलाते हैं। हर परिस्थिति में सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालने के वक्त ये काले रंग के यूनिफॉर्म, नकाब और हेलमेट में नजर आते हैं।

अधिकारियों की हुई मीटिंग

जानकारों के मुताबिक एनएसजी कमांडो के आने और यहां की प्रस्तावित योजनाओं को लेकर रविवार देर शाम ऑफिसरों की मीटिंग हुई। इसमें एनएसजी कमांडो के ठहरने और रिहर्सल करने वाले हिस्सों में व्यवस्था सुनिश्चित कर जानकारी देने के निर्देश दिए गए हैं।

Comments

Most Popular

To Top