Forces

खेल और युवा मामलों के मंत्री किरेन रिजिजू ने गणतंत्र दिवस- 2021 पुरस्कार प्रदान किए

किरेन रिजिजू ने गणतंत्र दिवस परेड के पुरस्कार प्रदान किए

नई दिल्ली। खेल और युवा मामलों के मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने आज गणतंत्र दिवस परेड के पुरस्कार प्रदान किए। इस वर्ष उत्तर प्रदेश की झांकी को सर्वश्रेष्ठ झांकी का पुरस्कार दिया गया। यहां 32 झांकियों में से 17 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से और 09 झांकियां विभिन्न मंत्रालयों/विभागों और अर्धसैनिक बलों से और 06 झांकियां रक्षा मंत्रालय की तरफ से सम्मलित हुई थीं। इन झांकियों से 26 जनवरी को राजपथ पर देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, आर्थिक विकास और रक्षा शौर्य को दर्शाया गया। इन सब में उत्तर प्रदेश की झांकी- ‘अयोध्या- उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत’ को विजेता का पुरस्कार दिया गया।





विजेताओं की सूची में त्रिपुरा की झांकी दूसरे स्थान पर रही। त्रिपुरा की झांकी ने दर्शाया कि कैसे इस राज्य ने पर्यावरण के अनुकूल परंपरा को बढ़ावा देते हुए सामाजिक-आर्थिक मापदंडों पर आत्मनिर्भरता हासिल की। इस पूर्वोत्तर राज्य में 19 जनजातियां रहती हैं और यहां दुनिया की 21 बांस की प्रजातियों का भी समृद्ध खजाना है। झांकी में बांस की प्रजातियों और जनजातियों की समृद्ध विरासत को दिखाया गया जिसमें उनके पारंपरिक परिधानों की झलक देखने को मिली और झांकी में लोगों ने बांस और बेंत से निर्मित मास्क भी पहने हुए थे।

‘देव भूमि- देवताओं का घर’, उत्तराखंड की इस झांकी ने विजेताओं में तीसरा स्थान हासिल किया। झांकी के सामने के हिस्से में राज्य-पशु कस्तूरी मृग को दिखाया गया। राज्य-पक्षी ‘मोनाल’ और राज्य-पुष्प ‘ब्रह्मकमल’ भी यहां देखने को मिले जो केदारखंड के साथ-साथ उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पाए जाते हैं। झांकी के मध्य में भगवान शिव के वाहन ‘नंदी’ को दिखाया गया। झांकी के पीछे के हिस्से में भगवान केदार का मंदिर दिखा जो 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। उस दिव्य शिला को मंदिर के ठीक पीछे दिखाया गया था जो बाढ़ के रास्ते में अडिग खड़ी थी और जिसने 2013 की आपदा में केदारनाथ मंदिर को बचा लिया था।

विभिन्न मंत्रालयों/विभागों और अर्धसैनिक बलों की 09 और रक्षा मंत्रालय की 06 झांकियों के बीच में जैव प्रौद्योगिकी विभाग की झांकी ने शीर्ष सम्मान हासिल किया। झांकी में आत्मनिर्भर भारत अभियान कोविड के टीके के विकास की विभिन्न प्रक्रियाओं को दर्शाया गया है। सामाजिक प्रासंगिकता के साथ नए उत्पादों के विकास को बढ़ावा देने के लिए जैव प्रौद्योगिकी विभाग आधारभूत ढांचा विकसित करने पर केंद्रित है। ये पारंपरिक ज्ञान पर आधारित स्वदेशी टीकों, देखभाल भरा निदान और उपचारात्मक प्रयोगों के विकास के लिए कार्य करता है ताकि अनुसंधान का एक समृद्ध खजाना तैयार हो सके जिससे इस दिशा में अपनी सेवाएं दी जा सकें।

केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) की झांकी जो ‘अमर जवान’ के थीम पर आधारित थी, उसे सशस्त्र बलों के शहीद नायकों को श्रद्धांजलि देने के लिए विशेष पुरस्कार से सम्मानित किया गया। अमर जवान की झांकी का मतलब था- राजपथ पर सैनिकों का अमर जीवन। ये झांकी भारतीय सशस्त्र बलों को सम्मानित करने वाले राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के सामने से ही गुजरी। झांकी के साइड पैनल सैनिकों के उत्साह को दर्शा रहे थे। झांकी को ताजे फूलों द्वारा उनके प्राकृतिक रंगों में उकेरा गया था जो एक मनभावन दृश्य उत्पन्न कर रहे थे।

रक्षा मंत्रालय और अन्य मंत्रालयों/ विभागों के वरिष्ठ अधिकारी और गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले कई कलाकार और बच्चे इस अवसर पर उपस्थित थे। किरेन रिजिजू ने प्रतिभागियों के साथ बातचीत की और परेड में उनके प्रदर्शन के लिए उन्हें बधाई दी।

Comments

Most Popular

To Top