Army

आतंकियों से लड़ रहे जवानों की ऐसे मदद कर रहे हैं लोग

जम्मू-कश्मीर। जम्मू में एक अदभुत नजारा देखने को मिल रहा है। जी हां, पृथ्वी का स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर में आतंकियों का खात्मा करने वाले जवानों पर भले ही पत्थरों की बरसात होती हो लेकिन, लेकिन जम्मू में देश के दुश्मनों से लड़ रहे जवानों के प्रति युवाओं में जोश व जुनून देखने को मिल रहा है। आतंकियों से लोहा लेने के लिए तैनात जवानों के लिए जहां लंगर लगाए जा रहे हैं। वहीं सेना की सुंजवां ब्रिगेड के बाहर देश भक्ति की बयार बह रही है।





यह कहना गलत नहीं होगा कि जम्मू के युवा दिलों का यह जूनून सेना के जवानों के लिए मानसिक सहयोग का काम कर रहा है। सुंजवां कैंप पर हुए हमले के बाद सेना जहां अन्दर लड़ रही तो CRPF और जम्मू कश्मीर पुलिस ब्रिगेड के बाहर डटे हैं। लेकिन सामने जुटी भीड़ पत्थरबाजों की नहीं, बल्कि जवानों के दिलों में जोश भरने वाले उन युवाओं की है जो देश के लिए जान देने का जज्बा रखते हैं।

सुरक्षा में तैनात जवानों को खिला रहे हैं खाना 

शनिवार सुबह से ब्रिगेड के आसपास के क्षेत्र में हाई अलर्ट के कारण सुरक्षा बल दोपहर तक बिना खाए-पीए डटे रहे। ऐसे में युवाओं ने ब्रिगेड के बाहर जलपान व भोजन की व्यवस्था की। युवा संगठन ‘आप शक्ति’ के बीस से अधिक नौजवान देर रात तक ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए भोजन की व्यवस्था करने में लगे रहे।

देश के सिपाहियों के लिये कुछ करना है हमारा फर्ज

सुरक्षाकर्मियों के लिए लंगर का संचालन करने वाले युवा विशाल महाजन ने बताया कि सैनिक देश के लिए जान दे देते हैं। लेकिन  हम कुछ भी नहीं कर रहे हैं। सुरक्षाकर्मी कठिनतम हालात में दिन रात ड्यूटी दे रहे हैं। हमारा फर्ज बनता है कि हम भी कुछ तो करें। उनके मुताबिक जब लंगर शुरू किया गया था तो कुछ ही लोग थे लेकिन  अब सेवा करने के लिए क्षेत्र के कई अन्य युवा भी आगे आ गए है।

गौरतलब है कि कुछ ही दिन पूर्व बैंक लूटने आए आतंकियों कि साजिश नाकाम करने में भी क्षेत्र के लोग आगे आए थे। हालांकि आतंकी भागने में सफल रहे। लेकिन क्षेत्र वादियों के इस साहसिक कदम को सकारात्मक रूप में देखा जा रहा है। यक़ीनन कश्मीर में भी लोगों का सेना प्रति रवैया बदल रहा है और वे सेना के सहयोग के लिए आगे  आ रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top