Army

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा- बाहरी शक्तियों के भ्रमजाल से बचें कश्मीर के युवा

सेना प्रमुख

नई दिल्ली। कश्मीर में आतंकवादी हिंसा और जवानों पर पथराव की घटनाओं के मद्देनजर आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने प्रदेश के युवाओं को आगाह किया है कि कुछ बाहरी शक्तियां उन्हें भ्रमित करने में लगी हैं और युवा उनके भ्रमजाल में न फंसें तथा आतंकवादी गतिविधियों से दूर रहें। जनरल बिपिन रावत सेना के यह बात सद्भावना कार्यक्रम के अन्तर्गत भ्रमण पर आए सीमावर्ती राजौरी जिले के सरकारी स्कूलों के छात्रों से शुक्रवार को साउथ-ब्लॉक में उनसे मुलाकात के दौरान कही।





जनरल रावत ने छात्रों से खुलकर चर्चा की और हल्के अंदाज में कहा कि दिल्ली में आपको बंकर देखने को नहीं मिलेंगे क्योंकि यहां शांति है और विकास के काम हो रहे हैं। उन्होंने बातों-बातों में आगाह किया कि कुछ बाहरी शक्तियां राज्य में भेदभाव पैदा कर लोगों को बांटने का प्रयास कर रही हैं। उन्होंने कहा कि छात्रों को उनके भ्रमजाल और आतंकी गतिविधियों से दूर रहना चाहिए। जनरल बिपिन रावत ने छात्रों को कड़ी मेहनत और राष्ट्र निर्माण प्रक्रिया में सक्रिय योगदान देने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने छात्रों का आह्वान किया कि वे भारतीय सशस्त्र बलों में शामिल होकर देश की सेवा करें।

देश में राष्ट्रीय एकता की भावना उत्पन्न करने के प्रयासों के तहत भारतीय सेना के संपर्क कार्यक्रम के अंग के रूप में जम्मू एवं कश्मीर के राजौरी के 13 छात्रों की पर्यटन-यात्रा आयोजित की गई है। छात्रों के साथ 2 पुरुष अध्यापक भी हैं। यात्रा का आयोजन 11 से 21 फरवरी, 2018 तक होगा। राष्ट्रीय एकता पर्यटन जम्मू – कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों के युवाओं के लिए आयोजित किया जाता है। यह शैक्षिक पर्यटन है, जिसका उद्देश्य देश की समृद्ध विरासत की जानकारी देना तथा विभिन्न विकास एवं औद्योगिक पहलों से परिचित कराना है। इस कदम से छात्रों को विभिन्न आजीविका विकल्पों की जानकारी मिलेगी और उन्हें प्रतिष्ठित हस्तियों से बातचीत करने का अवसर मिलेगा।

पर्यटन दल को 11 फरवरी, 2018 को जम्म-कश्मीर के राजौरी से रवाना किया गया  और उसमे शामिल छात्रों ने चंडीगढ़ तथा दिल्ली के विभिन्न सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक स्थानों का दौरा किया। दल देहरादून, हरिद्वार और जम्मू भी जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top