Air Force

भारत 7 इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस विमान खरीदेगा

इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस विमान

नई दिल्ली। चीन और पाकिस्तान के दोतरफा खतरे को देखते हुए भारत ने सिग्नल इंटेलिजेंस और कम्युनिकेशन जैमिंग वाले सात टोही जहाज खरीदने का फैसला किया है। इनकी कीमत 57 करोड़ डॉलर यानी करीब 3,600 करोड़ रुपये होगी। भारत इसके लिए दो इंजन वाले जेट विमानों की तलाश कर रहा है। वरीयता उन विमानों को दी जाएगी जिनमें भारत में बने इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर उपकरणों को लगाया जा सकेगा।





चीन से मुकाबले के लिए विमानों की जरूरत

वायुसेना के एक सेवानिवृत्त अधिकारी ने बताया कि भारत को एयरबोर्न इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस (एलिंट) विमानों की जरूरत खासतौर से चीन से मुकाबला करने के लिए है। इन सात सिग्निट विमानों का संचालन वायु सेना करेगी। इस सिलसिले में रिक्वेस्ट फॉर इनफॉर्मेशन (आरएफआई) विभिन्न विदेशी निर्माताओं के पास भेजी गई है।

24 महीने के भीतर विमान की डिलीवरी की बात 

आरएफआई पर प्राप्त सूचना के आधार पर मध्य 2018 में एक औपचारिक रिक्वेस्ट फॉर प्रपोज़ल (आरएफपी) जारी किया जाएगा, जिसमें अनुबंध होने के 24 महीने के भीतर विमान की डिलीवरी की बात होगी। इस सिलसिले में जो मुख्य कंपनियां मैदान में हैं उनमें इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज, नॉर्थ्रोप ग्रूमन, बोइंग, रेथिऑन, गल्फस्ट्रीम, अमेरिका की टेक्स्ट्रॉन, जर्मनी की डॉर्नियर, कनाडा की बॉम्बार्डियर, फ्रांस की दास एविएशन और ब्राजील की एम्ब्रेयर शामिल हैं।

Comments

Most Popular

To Top