Army

CRPF जवान ने दिखाई सूझ-बूझ, ऐसे नाकाम की जेल अधीक्षक पर हमले की साजिश

चंडीगढ़। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के एक जवान की मुस्तैदी और सूझ-बूझ ने भौंडसी (गुरुग्राम) स्थित मॉडर्न जेल के अधीक्षक पर हमले की योजना को नाकाम कर दिया। मंगलवार देर रात हथियारों से लैस 20 बदमाशों ने जेल अधीक्षक पर हमलेके इरादे से जेल परिसर में घुसने का हर हथकंडा अपनाया लेकिन CRPF के जवान राममेहर सिंह ने उनकी कोशिश को नाकाम कर दिया।





दरअसल गुरुग्राम स्थित मॉडर्न जेल की तरफ जाने वाला रास्ता CRPF ट्रेनिंग सेंटर से भी गुजरता है। यहां मंगलवार देर रात CRPF के जवान राममेहर सिंह बैरियर पर तैनात थे। रात्रि करीब ढाई बजे एक फोर्च्युनर कार बैरियर के करीब पहुंची तो तैनात जवान ने जांच-पड़ताल करनी चाही।

जवान की सूझ-बूझ आई काम

जानकारी के मुताबिक गाड़ी की अगली सीट पर एक महिला बैठी थी तथा गाड़ी चलने वाले शख्स ने खुद को जेलर का रिश्तेदार बताते हुए कहा कि वह उनके रिश्तेदार हैं और उन्हें जेलर के घर जाना है। जवान ने जेलर से फोन पर बात करवाने को कहा तो ड्राईवर ने कहा कि वह फोन घर भूल आए हैं। जवान ने जेलर से इंटरकॉम पर बात कराने को कहा और वह इंटरकॉम पर बात करवाने के लिए आगे बूथ की ओर बढ़े। लेकिन गाड़ी में सवार बदमाशों ने जवान को पैसे देने की पेशकश की। जवान ने इनकार किया तो गाड़ी में सवार बदमाश गाड़ी से उतरकर उनकी तरफ बढ़ने लगे। जवान राममेहर सिंह तब तक मामला समझ चुके थे।

जवान ने  तुरंत बदमाशों को डराने के लिए नाटक करते हुए इंटरकॉम उठाया और कहा, ‘जल्दी सुरक्षाकर्मियों को बैरिकेड नंबर एक पर भेजो.. ।’ इस पर सभी बदमाश जवान को गालियां देते हुए वहां से फरार हो गए। गुरुग्राम पुलिस ने जवान की शिकायत पर केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

बदमाशों के निशाने पर रहते हैं जेल अधिकारी  

गौरतलब है कि हरियाणा जेल में अधिकारियों पर हमले की साजिश की यह पहली कोशिश नहीं है। पिछले कुछ सालों में तकरीबन 24 जेल अधिकारियों को बदमाश निशाना बना चुके हैं। साथ ही जेल के भीतर मोबाइल मिलने की भी कई घटनाएं हो चुकी हैं। दो माह पहले 160 मोबाइल फोन मिलने के बाद भौंडसी जेल को लेकर काफी विवाद हुआ था। तब यहां के जेल अधीक्षक को हटाकर जयकिशन छिल्लर को जेल अधीक्षक बनाया गया था। सूत्रों के अनुसार जेल में बंद खूंखार कैदियों पर छिल्लर ने कुछ सख्त कदम उठाए थे। जिसके बाद माना जा रहा है कि उनके कैदियों के रिश्तेदारों ने ही हमले की साजिश की होगी।

Comments

Most Popular

To Top